मेरठ: सड़क पर बाबा को गड्ढा भरता देख पसीज गया लोगों का दिल और देखते ही देखते…

Smart News Team, Last updated: 25/08/2020 06:35 PM IST
  • मेरठ के बुढ़ाना गेट में एक बुजुर्ग की साइकिल फंसी तो उसने गड्ढे को भरने की ठानी और उसके बाद देखते ही देखते लोग भी उसकी मदद को आगे आये और गड्ढा भर गया.
मेरठ.वृद्ध किशनलाल के साथ गड्ढे को भरते हुए लोग.

 मेरठ. मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया…मजरूह सुल्तानपुरी ने शायद ठीक ही लिखा है. जब किसी अच्छे काम के लिए कोई एक कदम बढ़ाता तो उसके साथ लोग जुड़ते चले जाते हैं. लेकिन ज़रूरत है तो सिर्फ़ शुरुआत करने की. मंगलवार को मेरठ में ऐसा ही नज़ारा देखने को मिला.

शहर के एक बुजुर्ग की साइकिल गड्ढे में फंस गई थी.उसके बाद बुजुर्ग ने बीच सड़क पर बने इस गहरे गड्डे को मिट्टी डालकर भरना शुरू किया. उनके प्रयास को देखते हुए और लोग भी उनके साथ आ गए और थोड़ी देर में वह गड्ढा भर गया. इस गड्ढे के सामने से कितने ही हजारों लोग गुजरते हैं. कुछ की इस गड्ढे में गाड़ी फंस जाती है तो कुछ इस गड्ढे में गिर भी जाते हैं. वे भी प्रशासन की तरह आंख मूंद कर आगे बढ़ जाते हैं. लेकिन जब इन बुजुर्ग की साइकिल फंसी तो इन्होंने इस गड्ढे को भरने की ठानी.

मेरठ: सिटी डाकघर में दोबारा मिले दो कर्मचारी कोरोना संक्रमित, फिर मचा हड़कंप

जानकारी के अनुसार मंगलवार दोपहर सूरजकुंड निवासी बुजुर्ग किशन लाल बुढ़ाना गेट से होते हुए सूरजकुंड आ रहे थे. बीच सड़क पर बने गहरे गड्ढे में उनकी साइकिल फंस गई और वे गिर पड़े. इसके बाद उन्होंने अपनी साइकिल को सड़क किनारे खड़ा किया और अकेले ही गड्ढे को इधर-उधर पड़ी मिट्टी से भरना शुरू. बुजुर्ग को बीच सड़क पर गड्ढा भरते हुए देख वहां गुजर रहे लोग भी उनकी मदद को आगे आए और सभी ने मिलकर गड्डे को मिट्टी और ईंट डालकर भर दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें