मेरठ में चमत्कार, अक्टूबर में पेड़ पर लग गए मोटे-मोटे खुशबूदार आम

Smart News Team, Last updated: Thu, 15th Oct 2020, 9:19 PM IST
  • मेरठ शहर में लोग तब हैरान रह गए, जब अक्टूबर के महीने में पेड़ पर आम लद आए. इस करिश्मे को देखकर हर कोई हैरान है.
मेरठ में अक्टूबर के महीने में पेड़ पर लगे आम

मेरठ: शहर में लोग तब हैरान रह गए, जब अक्टूबर के महीने में पेड़ पर आम लद आए. यह घटना, मेरठ के शास्त्रीनगर में देखने को मिली. वहीं, प्रकृति के इस करिश्मे से हर कोई सकते में हैं. इस मौसम में पेड़ पर आम को देखने के लिए लोगों की भीड़ लग हुई है. 

शास्त्रीनगर ​में हापुड़ रोड पर सड़क के किनारे खडे इस आम के पेड़ को देखकर हर कोई आश्चर्यचकित है. आम की खुशबू से आसपास के इलाके के लोग पेड़ को देखने के लिए खींचे चले आते हैं. वहीं, इस मामले को लेकर शास्त्रीनगर में रहने वाले एक साधु ने कहा कि यह कलयुग का चमत्कार है.

साधू ने आगे कहा कि जो फल मार्च से लेकर जून-जुलाई तक पेड़ों पर आता था. वह आम का फल इस बार अक्टूबर माह में आ रहा है. 

पति-पत्नी ने टॉस करके चुनी बेटे की जिंदगी, खुद कूदे ट्रेन के आगे

बता दें, इस आम के पेड़ को न तो किसी ने खाद दिया और किसी ने इस पर किसी तरह का कोई कैमिकल स्प्रे किया. लेकिन उसके बाद भी पेड़ पर आम आना अपने आप में अद्भुद है. इस आम के पेड़ पर लगने वाला फल 15 दिन में ही बड़ा हो जाता है. पेड़ पर आ रहे आम का वजन भी अच्छा खासा है यानी ढाई सौ ग्राम से लेकर पांच सौ ग्राम तक का.

मेरठ के व्यापारियों ने की आर्म्स लाइसेंस जारी किए जाने की मांग

वहीं, जहां यह आम का पेड़ लोगों के बीच जिज्ञासा पैदा कर रहा है. दूसरी ओर कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि इसकी वजह ग्लोबल वार्मिंग है. कृषि वैज्ञानिक डा. आरएस सैंगर का कहना है कि मौसम के बदले मिजाज और ग्लोबल वार्मिंग का असर इस बार आम की फसल पर पूरी तरह दिखाई दिया है. कहीं पर समय से पहले बौर आ गए तो फसल पूरी तरह से नहीं हो पाई। समय से पहले आए बौरों ने बागवानों में निराश किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें