Navratri 2021: जानें किस राशि वाले को मां के किस रूप की करनी चाहिए पूजा, माता रानी होंगी प्रसन्न

Priya Gupta, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 1:16 PM IST
  • धार्मिक मान्यता है कि अपनी राशि के अनुसार मां के स्वरूप की उपासना करें तो आपकी मनोकामना जल्द पूरी होगी.
जानें किस राशि वाले को मां के किस रूप की करनी चाहिए पूजा

7 अक्टूबर गुरुवार से नवरात्रि की शरुआत हो चुकी है. नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है. हर तरफ माता की भक्ती में लोग डूबे हैं. नवरात्रि के तीसरे दिन मां भगवती की तृतीय शक्ति मां चंद्रघंटा की आराधना की जाती है. हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार तृतीया और चतुर्थी तिथि एक ही दिन होने की वजह से मां चंद्रघंटा और मां कूष्मांडा की एक ही दिन पूजा की जाएगी. धार्मिक मान्यता है कि अपनी राशि के अनुसार मां के स्वरूप की उपासना करें तो आपकी मनोकामना जल्द पूरी होगी.

राशि के अनुसार करें मां के इस स्वरूप की पूजा

मेष राशि: मेष राशि के जातकों को मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की पूजा करनी चाहिए. मान्यता के अनुसार, इनकी पूजा करने से सभी मनोकामना जल्द पूरी होगी.

वृष राशि: वृष राशि वालों को मां के दूसरे स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की उपासना करना उतम होता है. इन्हें माह की हर नवमी को व्रत रखकर इनकी पूजा करनी चाहिए.

Navratri 2021: मां दुर्गा के कवच पाठ से मिलता है भक्तों को आरोग्य का वरदान

मिथुन राशि: इस राशि के लोगों को मां दुर्गा के चन्द्रघण्टा स्वरुप की पूजा अर्चना करनी चाहिए. मान्यता है कि व्रत रखकर इनकी पूजा करने से संकट दूर होते हैं.

कर्क राशि: इन्हें माता सिद्धिदात्री की उपासना -आराधना करनी चाहिए. सभी मनोकामनाएं पूर्ण होने की मान्यता है.

सिंह राशि: इस राशि वालों को मां कालरात्रि की पूजा करना उत्तम होता है.

कन्या राशि: इस राशि के जातकको नवरात्रि में मां चन्द्रघण्टा की पूजा सबसे अधिक उपयोगी होगी. मां सभी दुख दूर करेंगी.

तुला राशि: नवरात्रि में इनको मां ब्रह्मचारिणी की आराधना करनी चाहिए. मां ब्रह्मचारिणी की कृपा से जीवन सुखी रहेगा.

वृश्चिक राशि: इस राशि के जातकों द्वारा मां दुर्गा के शैलपुत्री स्वरुप की आराधना से मां विशेष कृपा प्राप्त होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें