मेरठ: धूम्रपान के शौकीन हुए ऑर्गेनिक, निकोटिन- तंबाकू फ्री बीड़ी आ रही पंसद

Smart News Team, Last updated: 01/09/2020 03:35 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के व्यापारी ने तम्बाकू मुक्ट बीड़ी का उत्पादन शुरू कर अपने पारिवारिक कारोबार को वैश्विक स्तर का बना दिया है. ऑर्गेनिक बीड़ी की विदेशों में काफी डिमांड है जिसने धूम्रपान करने वालों के बीच अपनी खास जगह बनाई है.
उत्तर प्रदेश के व्यापारी ने बनाई ऑर्गेनिक बीड़ी, विदेशों में है खास डिमांड

मेरठ. उत्तर प्रदेश के व्यापारी ने तम्बाकू मुक्ट बीड़ी का उत्पादन शुरू कर दशकों पुराने अपने पारिवारिक बिजनेस को वैश्विक बाजार दिया है. तम्बाकू मुक्त ऑर्गेनिक बीड़ी की मांग विदेशों में भी काफी है.

फेवरेट लीफ ब्रांड नाम से ऑर्गेनिक बीड़ी को दो साल पहले बिना किसी विज्ञापन के बाजार में उतारा गया. देखते ही देखते विदेशों में धूम्रपान करने वालों के बीच यह बीड़ी खास पसंद बन गई. दो साल में ऑर्गेनिक बीड़ी पोलैंड और स्विट्जरलैंड समेत अमेरिका और यूरोप के कई देशों में अच्छी संख्या में बिकने लगी. विदेशों में बिक्री के बाद कारोबार करीब डेढ़ करोड़ रुपए सालाना की आय तक पहुंच गया.

फेवरेट लीफ के मालिक आदिल मसूद का कहना है कि उनके उत्पाद को विदेशी ग्राहकों ने जबरदस्त रिस्पांस दिया है. इसके बाद वह अपने निर्यात को पूरे यूरोप समेत अन्य देशों में फैलाने की नीति पर काम कर रहे हैं.  

मेरठ में फेक फेसबुक आईडी बनाकर ठगने वाले गैंग का बिल्डर बना शिकार!

आदिल का कहना है कि ऑर्गेनिक बीड़ी पूरी तरह तम्बाकू और निकोटिन फ्री है. इसमें कुछ भी अलग नहीं मिलाया जाता है बस आयुर्वेदिक मिश्रण भरा जाता है जो सौ प्रतिशत तम्बाकू रहित है. ऑर्गेनिक बीड़ी में मौजूद औषधीय गुण गले को साफ करते हैं इसी के साथ खांसी में भी आराम पहुंचाते हैं. 

मेरठ: गांव में बैठकर हुई फेसबुक से ठगी, 38 FB अकाउंट बंद, कहीं आप तो शिकार नहीं

आदिल का परिवार दशकों से बीड़ी का कारोबार चला रहा है. आदिल के स्वर्गीय पिता मसूद अली और चाचा इस्लाम अहमद ने इस व्यवसाय को शुरू किया था. इसके बाद यह परम्परागत व्यवसाय बन गया. आदिल ने छह साल पहले ही इस व्यवसाय को संभाला है. उनका मानना है कि व्यवसाय को नया आयाम देने के लिए कुछ क्रिएटिव और नया करने की जरूरत होती है. मांग और जरूरत के अनुसार तीन साल तक रिसर्च करने के बाद आदिल ने ऑर्गेनिक बीड़ी को बाजार में उतारा था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें