मंगलवार के दिन हनुमानजी को चढ़ाएं पीपल के पत्ते की माला और पान, बजरंगबली देंगे आशीर्वाद

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 12th Oct 2021, 6:14 AM IST
  • संकटमोचन हनुमान की पूजा हर मंगलावर और शनिवार को करने का विधान है. इस दिन भगवान की खास पूजा की जाती है. यदि पूजा में हनुमानजी को पान औप पीपल के पत्तों ती माला चढ़ाई जाए तो व्यक्ति की हरेक मनोकामनाएं पूरी होती है.
हनुमानजी को चढ़ाएं पीपल के पत्ते की माला, बजरंगबली देंगे आशीर्वाद

महाशक्तिशाली, संकटहरण और मनोकामना पूर्ति के देवता बजरंगबली की पूजा वैसे तो हर दिन की जाती है. लेकिन मंगलवार का दिन बेहद शुभ माना गया है. कहा जाता है इस दिन पूरे विधि-विधान से हनुमान जी की पूजा करने से व्यक्ति के सारे कष्ट हूर हो जाते हैं और जीवन में खुशहाली बनी रहती है. बजरंगबली के आशीर्वाद से जीवन में कोई संकट नहीं आता. आइये आपको बताते हैं मंगलवार के दिन ऐसा कौन सा उपाय करें जिससे हनुमानजी शीघ्र प्रसन्न होकर अपना आशीर्वाद दें.

ऐसे बनाएं पीपल के पत्तों की माला- मंगलवार के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठें. इसके बाद नहा धोकर स्वच्छ हो जाएं. फिर किसी पीपल के पेड़ से 11 पत्ते तोड़ लें. ध्यान रखें पत्ते पूरे होने चाहिए, कहीं से टूटे या खंडित नहीं होने चाहिए. इन 11 पत्तों पर स्वच्छ से धोकर कुमकुम या अष्टगंध या चंदन मिलाकर श्रीराम का नाम लिखें. नाम लिखते समय हनुमान चालिसा का पाठ करें. इसके बाद श्रीराम नाम लिखे हुए इन पत्तों की एक माला बनाएं. पीपल के पत्तों की माला को किसी भी हनुमानजी के मंदिर जाकर वहां बजरंगबली को चढ़ाएं.

Shardiya Navratri 2021: नवरात्रि व्रत के दौरान इन हेल्दी डाइट को अपनाएं, शरीर रहेगा स्वस्थ्य

ऐसे चढ़ाए पान का पत्ता - पान के पत्तों में कत्था, गुलकंद, सौंफ, घिसा नारियल और सुमन कतरी मिला कर इसे पान रसीला बना लें. लेकिन ध्यान रहे पान में चूना, सुपारी या तंबाकू भूल कर भी न डालें. हनुमानजी को पान चढ़ाने से जीवन की हर समस्या खत्म हो जाती है औऱ शीघ्र ही उनका आशीर्वाद मिलता है.

इन उपायों को करने के साथ ही सबसे जरूरी है कि आप हनुमान चालीसा के साथ बजरंगबाण का भी पाठ करें और हर मंगलवार की शाम को हनुमान मंदिर जरूर जाएं. भगवान को बेसन का लड्डू या हलवे का भोग लगाएं

Navratri 2021: नवरात्रि में घरों में लगाएं ये पौधा, घर में आएगी बरकत, नहीं होगी धन की हानि

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें