मेरठ में दिल्ली जैसे खतरनाक हालात,15 दिनों में कोरोना के करीब 2000 पॉजिटिव मामले

Smart News Team, Last updated: 17/11/2020 08:11 PM IST
  • मेरठ जिले में कोरोना संक्रमण एक बार फिर से खतरनाक होने लगा है. नवंबर के 15 दिनों में जिले में 1969 केसों की पुष्टि हो चुकी है. वहीं 37 लोगों की मौत हो चुकी है. 15 दिनों में कोरोना संक्रमण की दर भी 3.45 प्रतिशत तक हो गई है. जहां केस बढ़े हैं, वहीं मौत का आंकड़ा भी बढ़ा है. अधिकारियों का साफ कहना है कि दिल्ली की तरह मेरठ में भी अब खतरनाक स्थिति हो रही है. वहीं सोमवार को दीपावली के तीसरे दिन 173 और कोरोना संक्रमित मिले हैं और दो लोगों की मौत हो गई. दीपावली से सोमवार तक 437 कोरोना संक्रमित हुए. सात लोगों की मौत हो गई. यह संक्रमण का उच्च दर माना जा रहा है. 
  • फलावदा के गांव सकौती निवासी सोनू प्रधान की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. पुलिस के अनुसार सोनू की हत्या उसकी पत्नी ने कराई थी. पुलिस ने इस मामले में पत्नी समेत तीन लोगों को हिरासत में लिया है. सोनू प्रधान की तीन नवंबर को फलावदा रोड पर गैस गोदाम के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. जांच में पता चला कि सोनू की हत्या उसी की पत्नी ने कराई है. 
  • भैया दूज के अगले दिन भी रोडवेज बस अड्डों पर यात्रियों की भीड़ रही. त्योहार मनाकर घर लौट रहे यात्री बसों में चढ़ने के लिए संघर्ष करते रहे. सबसे अधिक परेशानी महिलाओं को हुई. बसों में सीट ना मिलने के चलते महिलाओं को खड़े होकर सफर करना पड़ा. बसों के फेरे बढ़ाने के बावजूद रोडवेज की तमाम व्यवस्थाएं नाकाफी साबित हुईं. 
  • राजभवन से हरी झंडी मिलने के बाद चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय कैंपस अगले स्तर से पूरी तरह से डिजीटल प्लेटफार्म पर दौड़ेगा. आनलाइन एडमिशन और परीक्षा फार्म से आगे विश्वविद्यालय का अगला कदम तमाम प्रक्रियाओं को डिजीटल प्लेटफार्म से जोड़ने का है. अगले कुछ महीनों में संबंद्धता की समस्त प्रक्रिया आनलाइन हो जाएगी. प्रोग्रामर की नियुक्ति के बाद छात्र-छात्राओं के प्रवेश से जुड़ी प्रक्रिया के लिए भी कैंपस तैयार होगा.

सम्बंधित वीडियो गैलरी