मेरठ: कोरोना को लेकर मेरठ के कई इलाके अति संवेदनशील घोषित, सख्ती करने के निर्देश

Smart News Team, Last updated: 24/11/2020 09:33 PM IST
  • डीएम के बाला जी ने शहर में कोरोना संक्रमण की बिगड़ती स्थिति को देखते हुए शहर के विभिन्न इलाकों को अति संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर दिया है. डीएम की ओर से जारी आदेश में शास्त्री नगर सेक्टर दो और छह, सेंट्रल मार्केट जागृति विहार सेक्टर पांच, छह, सात और आठ, नेहरू नगर गली नंबर दो और तीन, न्यू मोहनपुरी, पुरानी मोहनपुरी और साकेत, पल्लवपुरम फेस-1, एकता नगर आदि इलाकों को तत्काल प्रभाव से अति संवेदनशील क्षेत्र घोषित कर दिया है. संबंधित क्षेत्रों के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों से आने वाले सभी लोगों की सख्ती से जांच के निर्देश दिए गए हैं. डीएम ने कहा कि इन इलाकों में लोगों को शत प्रतिशत मास्क पहनना अनिवार्य होगा, साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करना होगा. छोटे-छोटे दुकानदारों और रेहड़ी वालों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए दुकाने खोलने और बंद करने का आदेश दिया गया है. उल्लंघन की स्थिति में महामारी एक्ट के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी.
  • कोरोना काल के बीच आठ माह बाद खुले विश्वविद्यालय और कॉलेजों में आज भी स्टूडेंट कम संख्या में पहुंचे. वहीं कॉलेजों ने मेन गेट पर सेनेटाइजर, थर्मल स्केनिंग की व्यवस्था की हुई है. छात्र-छात्राओं के लिए मास्क अनिवार्य है लेकिन यह बाध्यता कैंपस और कॉलेजों में ही दिखाई दी. विश्वविद्यालय और कॉलेजों में एंट्री के बाद सभी छात्र-छात्राओं ने मास्क पहनने के नियम का पालन किया लेकिन कैंपस से बाहर निकलते ही अधिकांश ने मास्क उतार दिए. कैंपस में सामाजिक दूरी के नियमों का भी पालन हुआ.
  • ईलाहाबाद हाईकोर्ट ने जनहित याचिका की सुनवाई के बाद मेरठ डीएम को कूड़े का पहाड़ तीन माह में हटाने के आदेश दिए हैं. जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायधीश ने याचिका को निस्तारित करते हुए डीएम को यह आदेश दिया है. याचिका में आबादी के बीच मंगतपुरम और लोहियां नगर में कूड़े के पहाड़ से जनहित को खतरा बताते हुए कार्रवाई की गुहार लगाई गई थी. हाईकोर्ट ने इसे गंभीर मामला बताते हुए तीन माह में कूड़े के पहाड़ को हटाने के निर्देश दिए हैं. बढ़ते महिला अपराध व अन्य मुद्दों को लेकर आज आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने तिरंगा मार्च निकाला. जुलूस निकालकर क्लैक्टरेट पर प्रदर्शन किया और राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा. प्रदर्शनकारियों ने प्रदेश में महिलाओं और बच्चों के खिलाफ बढ़ते अपराधों को लेकर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई और तिरंगों के साथ क्लैक्टरेट पर पहुंचकर प्रदर्शन किया गया. राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की मांग की गई.
  • शहर में हाईलाइन फीडरों पर बिजली चोरी रोकने और लाइन लॉस 15 फीसदी से नीचे लाने के लिए छापेमारी अभियान कई इलाको में चलाया गया. बिजली और विजिलैंस की टीमों ने 28 लोगों को बिजली चोरी करते हुए पकड़ा. सभी के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करवा दी गई है. इस दौरान कई लोगों ने टीम का विरोध भी किया.

सम्बंधित वीडियो गैलरी