एईएस से बचाव को चलेगा अभियान, अधिकारी लेंगे पंचायतों को गोद, जानें

Smart News Team, Last updated: Thu, 25th Feb 2021, 3:53 PM IST
  • गर्मियों में फैलने वाली बीमारियों से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. एईएस बीमारी से बच्चों को बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग की ओर से जागरुकता अभियान चलाया जाएगा और डीएम की ओर से इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए गए हैं.
एईएस की रोकथाम के लिए निर्देश जारी किए गए (सांकेतिक तस्वीर)

मुजफ्फरपुर. डीएम प्रणव कुमार की अध्यक्षता में हुई बैठक में बच्चों को गर्मियों में होने वाली बीमारी एईएस से बचाने के लिए महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं. इस बीमारी से बचाव के बनाए कोषांगों का काम संतोषजनक ना मिलने के कारण डीएम ने नाराजगी जताई और फिर इस बीमारी से बचाव को निर्देश दिए. एईएस से बचाव के लिए निगरानी हेतु अभियान चलाया जाएगा. हर पंचायत को एक अधिकारी गोद लेगा. जागरुकता अभियान के साथ ही मोबाइल मैसेज से अलर्ट भेजा जाएगा.

डीएम ने कमेटी के सभी प्रभारियों को अपने कार्य समय पर करने के निर्देश दिए हैं. मीटिंग में कोषांग के अभी तक किए कार्यों की जानकारी नोडल अधिकारी डीपीआरओ कमल सिंह ने दी.इस बार स्कूलों के जरिए भी जागरुकता कार्यक्रम संचालित किए जाएंगे. जिले के शिक्षा पदाधिकारी मार्च के प्रथम सप्ताह से चमकी पर चर्चा करने का काम शुरू कर देंगे. इसके साथ ही मीटिंग में आईसीडीएस के डिस्ट्रिक्ट प्रोग्राम अफसर को सभी आंगनबाड़ी केंद्रों के पोषक क्षेत्रों में नामांकित और गैर नामांकित बच्चों का पूरा विवरण उपलब्ध कराएंगे.

अब स्वरोजगार के लिए महिलाओं को नहीं होगी पैसों की दिक्कत

गर्मियों में फैलने वाली बीमारियों से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं. एईएस बीमारी से बच्चों को बचाने के लिए विभाग की ओर से इस बार लक्षण के आधार पर इलाज किया जाएगा. एईएस बीमारी का अभी तक कोई कारण नहीं आने के कारण ही इस साल लक्षण के आधार पर पटना एम्स में इसका इलाज किया जाएगा. गत वर्ष पटना एम्स में एईएस की जद में आने वाले ज्यादातर बच्चे कुपोषण का शिकार थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें