बिहार चुनाव की गतिविधियों में शामिल न होने वाले 37 कर्मचारियों के खिलाफ केस दर्ज

Smart News Team, Last updated: Tue, 27th Oct 2020, 10:27 PM IST
  • बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के मतदान प्रशिक्षण और तिरहुत स्नातक व शिक्षक निर्वाचन के मतदान में शामिल न होने वाले 37 कर्मचारियों पर लापरवाही बरतने को लेकर मुकदमा दर्ज किया गया है.
बिहार चुनाव के कामों में शामिल न होने वाले 37 कर्मचारियों पर केस दर्ज.

मुजफ्फरपुर. बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण की वोटिंग बुधवार को होनी है. उससे पहले 37 कर्मचारियों पर मुकदर्मा दर्ज किया गया है. इन कर्मचारियों ने तिरहुत स्नातक व शिक्षक निर्वाचन के मतदान और बिहार विधानसभा चुनाव के प्रशिक्षण में शामिल नहीं हुए थे. जिसके बाद जिाधिकारी के निर्देश पर सोमवार को पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज करा दी गई है.

बिहार विधानसभा चुनाव के प्रशिक्षण और तिरहुत स्नातक व शिक्षक निर्वाचन के मतदान में शामिल न होने वाले कर्मचारियों पर सख्ती दिखाई है. इन कर्मचारियों के खिलाफ जिलाधिकारी के निर्देश पर सोमवार को जिला पदाधिकारी सह कार्मिक कोषंग के नोडल पदाधिकारी नीलम कुमार ने नगर थाने में एफआईआर दर्ज कराई है.

डिप्टी CM सुशील मोदी की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव, पटना एम्स से डिस्चार्ज

इस एफआईआर में उन कर्मचारियों पर अपने कर्तव्य को लेकर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया गया है. केस दर्ज होने के बाद पुलिस इस मामले की जांच में जुट गई है. आपको बता दें कि बिहार विधान परिषद की वोटिंग 22 अक्टूबर को हुई थी. वहीं बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के पहले चरण की वोटिंग 28 अक्टूबर को होनी है.

बिहार चुनाव: पहले चरण का प्रचार थमा, 28 अक्टूबर को 71 सीटों पर मतदान

तिरहुत स्नातक और शिक्षक निर्वाचन क्षेत्र में 24 कर्मचारियों पर मतदान में शामिल न होने की वजह से मुकदमा दर्ज किया गया. इन कर्मचारियों में चन्द्रभूषण कुमार सहायक अभियंता संसाधन विभाग, प्रकाश कुमार प्रमंडलीय लेख पदाधिकारी, नित्यानंद कुमार सहायक अभियंता, रवि रंजन कुमार विमल कनीय अभियंता लघु सिंचाई, प्रकाश कुमार झा आदि लोग शामिल है.

बिहार चुनाव में विधानसभा प्रत्याशी की गोली मारकर हत्या, हमलावर की भी मौत

बिहार विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान प्रशिक्षण में शामिल न होने वाले 13 कर्मचारियों पर एफआईआर हुई है. जिनमें उमेश कुमार रवि अरुण कुमार सुमन, आनंद लाल प्रसाद और मोहम्मद नौशाद शामिल हैं. 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें