बिहार चुनाव: मीनापुर सीट पर JDU और RJD में सीधा टक्कर, जानें क्या हैं समीकरण

Smart News Team, Last updated: 02/11/2020 09:30 PM IST
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 का मतदान 3 नवम्बर को होने जा रहा है. जिसके लिए बिहार के 17 जिलों के 94 सीटों पर मतदान होना है. जिसमे से मुजफ्फरपुर के मीनापुर सीट पर भी मंगलवार को चुनाव होगा. जानिए इस सीट क्या इतिहास रहा है? और क्या है इस बार की चुनावी समीकरण?
बिहार विधानसभा चुनाव 2020

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दूसरे चरण का मतदान 3 नम्बर से होने जा रहा है. जिसमे मुजफ्फरपुर के मीनापुर विधानसभा सीट पर वोटिंग होगी. इस सीट पर 2015 के चुनाव में आरजेडी के राजीव कुमार ने बीजेपी के अजय कुमार को हराकर जीता था. 2020 के चुनाव में फिर से राजद की तरफ से राजीव कुमार चुनावी मैदान में है और एनडीए की तरफ से जेडीयू के मनोज कुमार को इस बार मौका दिया गया है. वहीं इस सीट पर चिराग पासवान की एलजेपी से अजय कुमार कुशवाहा और आरएलएसपी से प्रभु कुशवाहा मैदान में है.

मुजफ्फरपुर: तीन विधानसभा क्षेत्रों में किया गया ईवीएम की रैंडेमाइजेशन का काम

इस सीट का इतिहास

 मुजफ्फरपुर के मीनापुर सीट पर अभी तक बिहार विधासभा के 16 बार चुनाव हो चुके है. जिसमे से सबसे ज्यादा चार बार कांग्रेस ने चुनाव जीता है. वहीं दो बार राजद और जदयू और जनता दल के उम्मीदवार विजेता रहे है. इस सीट पर पिछले विधानसभा चुनाव में राजद के उम्मीदवार राजीव कुमार ने बीजेपी के अजय कुमार को 29 हजार वोटों के अंतर से हराया था. इसी तरह 2010 विधानसभा में जदयू के हिन्दकेशर तीन बार विजयी हुए उसके पहले 2005 और 2000 में भी चुनाव जीते थे.

जर्जर हो रहे क्रांतिकारी खुदीराम बोस के फांसी स्थल का किया जाएगा सौंदर्यीकरण

क्या है इस बार का समीकरण

इस सीट पर 2015 के विधानसभा चुनाव में 64.8% प्रतिशत मतदान हुआ था. जिसमे पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं ने ज्यादा वोटिंग की थी. इस सीट पर पुरषों की कुल 59.3% प्रतिशत मतदातों ने वोटिंग किया था, तो वहीं महिलाओं ने 70.5% प्रतिशत मतदान किया था. यदि इस प्रत्येक चुनाव में जातीय समीकरण की बात करे तो इस सीट पर मुस्लिम, यादव और कोइरी के मतदान निरदयाक साबित होंगे वहीं पासवान, राजपूत भी अहम भूमिका में है.

समाहरणालय परिसर मुजफ्फरपुर से सिकंदरपुर स्टेडियम तक वॉकथान,मतदान को किया जागरूक

अगर जेब में 786 नंबर का नोट है तो बन सकते हैं लखपति, बस करना होगा ये काम

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें