साहेबगंज विधानसभा सीट: RJD और NDA में टक्कर, जानें क्या है चुनावी मिजाज

Smart News Team, Last updated: 02/11/2020 11:47 PM IST
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में मुजफ्फरपुर के साहेबगंज विधानसभा सीट पर दूसरे चरण का मतदान 3 नवम्बर को होने जा रहा है. जहाँ पर राजद के रामविचार राय को प्रबल दावेदार माना जा रहा है. इसके अलावा वीआईपी और लोजपा के उम्मीदवार भी इस सीट के प्रबल दावेदार माने जा रहे है.
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 दूसरा चरण

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के दूर चरण में बिहार के 17 जिलों के 94 सीटों पर चुनाव होगा. जो 3 नवम्बर को मतदान होने जा रहे है. पिछले विधानसभा चुनाव 2015 में मुजफ्फरपुर के साहेबगंज सीट पर राजद के रामविचार राय जीतकर विधायक हुए थे. एक बार फिर विधानसभा 2020 के चुनाव में महागठबंधन की तरफ से आरजेडी ने रामविचर राय को ही अपना उम्मीदवार बनाया है. वहीं एनडीए की तरफ से वीआईपी राजकुमार सिंह को चुनावी मैदान में उतारा गया है. इस सीट पर लोजपा की तरफ से कृष्ण कुमार को टिकट दिया गया है.

कांटी विधानसभा सीट: एक बार भी नहीं आई BJP के हिस्से, जानें क्या है चुनावी समीकरण

इस सीट का चुनावी इतिहास

अभी तक इस सीट पर विधानसभा के 16 बार चुनाव हो चूका है. इस सीट को सबसे ज्यादा बार कांग्रेस ने अपने नाम किया है. राजद के उम्मीदवार रामविचार राय ने पिछले विधानसभा चुनाव 2015 में भाजपा के प्रत्याशी राजू सिंह को 10 हजार वोटो के अन्तर से हराकर इस सीट पर विधायक चुने गए थे. इनकी इस सीट पर यह चौथी बार जीत शाबीत हुई थी. जबकि इनके प्रतिद्वंदी राजू सिंह भी इस सीट से तीन बार विधायक रह चुके है.

बिहार चुनाव: मीनापुर सीट पर JDU और RJD में सीधा टक्कर, जानें क्या हैं समीकरण

क्या है चुनावी समीकरण

इस विधानसभा सीट पर कुल 2.94 लाख मतदाता है जो इस बार के चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. जिसमे से 1.58 लाख मतदाता पुरुष और 1.35 लाख महिला मतदाता है. पिछले 2015 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 58.1% प्रतिशत वोटिंग हुई थी. अगर इस सीट पर जातीय समीकरण को देखा जाय तो इस सीट पर भूमिहार, कोइरी, राजपूत, ब्राह्मण, यादव, मुस्लिम और रविदास समुदायों के मतदाताओं का बेहद खास रोल रहने वाला है.

 

CM नीतीश को शिकायती पत्र भेजकर बोले चिराग-चुनाव में JDU के नेता कर रहे निजी हमले

मुंगेर गोलीकांड में आरोपियों के खिलाफ FIR दर्ज, घायलों से मिले DIG मनु महाराज

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें