फीस नहीं तो परीक्षा नहीं की शिकायत पर आयोग ने लिया संज्ञान, स्कूलों पर कार्रवाई के आदेश

Smart News Team, Last updated: Fri, 12th Mar 2021, 9:44 AM IST
  • मुजफ्फरपुर में 100 फीसद फीस नहीं जमा होने पर स्कूल बच्चो को परीक्षा देने से रोके जाने की शिकायत पर बिहार बाल संरक्षण आयोग ने कार्रवाई का आदेश दिया. साथ ही कहा कि बच्चों को परीक्षा में शामिल होने से रोकना उत्पीड़न में आता है.
फीस नहीं तो परीक्षा नहीं की शिकायत पर आयोग ने लिया संज्ञान, स्कूलों पर कार्रवाई के आदेश

मुजफ्फरपुर. फिस नहीं तो परीक्षा नहीं कहकर बिहार के मुजफ्फरपुर में बच्चों को एग्जाम देने से रोक जा रहा है. वही दूसरी तरफ अभिवावकों का कहना है कि जब पूरी सुविधा नहीं दी गई तो सौ फीसद फीस क्यो लिया जा रहा है. जब यह मामला खुलकर सभी सामने आया तो बाल संरक्षण आयोग ने इसको संज्ञान में लेते हुए जवाब मांगा है. साथ ही आयोग ने अभिवावकों की शिकायत पर आयोग ने डीईओ को इस मामले पर कार्रवाई के आदेश दिए है. यही नहीं राज्य के अन्य जिलों से ऐसी शिकायते आयोग को मिली है.

जिले में केवल बच्चों की फीस नहीं जमा होने पर केवल परीक्षा में ही बैठने से नहीं रोक जा रहा है. स्कूल आने से भी मना किया जा रहा है. वही जिन स्कूलों में परीक्षा हो चुकी है उनमें उन बच्चों के परिणाम नहीं दिखाई जा रहे है जिन्होंने ने अभी तक अपनी पूरी फीस नहीं जमा की है. जिसको लेकर आयोग को अभिभावकों ने कई शिकायतें भी है. जिसके बाद आयोग ने उन अभी स्कूलों को चिन्हित कर कार्रवाई के निर्देश दिए है जो ऐसा कर रहे है. वही दूसरी तरफ इन शिकायतों पर जिला प्रशासन व जिला अधिकारी का कहना है कि सरकार की तरफ से इसपर कोई निर्देश नहीं दिया गया है.

ग्राम प्रधान और अन्य प्रतिनिधि भुगतान के लिए नहीं काट पाएंगे अब चेक, प्रक्रिया हुई ऑनलाइन

अभिभावकों ने आयोग से शिकायत की है कि कोरोना महामारी के कारण हुए लॉक डाउन में स्कूल बंद थे. जिसके चलते ऑनलाइन क्लासेज चली. साथ ही पूरी सुविधाएं भी नहीं दी गई. उसके बावजूद भी कई स्कूल सौ फीसद तक फीस मांग रहे है. जो सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विरुद्ध है. इन शिकायतों पर बिहार बाल संरक्षण आयोग का कहना है कि बच्चों को परीक्षा में शामिल होने से रोकना उत्पीड़न में आता है. आयोग ने डीईओ को ऐसे स्कूल्स पर कार्रवाई के निर्देश दिए है.

बिहार पंचायत चुनाव: वोट देने के लिए 14 दस्तावेज वैलिड, फोटो कॉपी नहीं चलेगी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें