बिहार चुनाव में इस बार सड़क पानी और रोजगार का भी है चुनावी मुद्दा

Smart News Team, Last updated: 09/10/2020 04:48 PM IST
  • मतदाता भी स्थानीय समस्याओं को चुनावी मुद्दा बनाकर उम्मीदवारों के समक्ष रखकर चुनौती पेश कर रहे हैं. 24 घंटे निर्वाध बिजली देने का वादे यहां के लोगों के लिए सपना बना हुआ है.
बिहार में विधानसभा चुनाव के चलते राजनीतिक गलियारों में हलचल

मुजफ्फरपुर : बिहार में विधानसभा चुनाव के चलते राजनीतिक गलियारों में हलचल तो है ही वहीं आम जनता में भी संभावित उम्मीदवारों को कसौटी पर कसा जाने लगा है.

विधानसभा क्षेत्र कांटी में भी कमोबेश यही स्थिति है. चुनाव में त्रिकोणी संघर्ष की संभावना की के बीच मतदाता भी स्थानीय समस्याओं को चुनावी मुद्दा बनाकर उम्मीदवारों के समक्ष रखकर चुनौती पेश कर रहे हैं.

यूं तो विधानसभा क्षेत्र कांटी में विकास की बहुमुखी संभावनाएं हैं. पिछले चुनावों से लेकर अब तक यहां के मतदाताओं को बड़े-बड़े वादे करके ठगा ही गया है. थर्मल पावर प्लांट से जहां यहां के लोगों को विकास की आस बंधी थी अब यही उनके लिए अभिशाप बनता जा रहा है. 24 घंटे निर्वाध बिजली देने का वादे यहां के लोगों के लिए सपना बना हुआ है. वहीं थर्मल पावर का दूषित जल यहां के लिए बीमारी का सबब बन गया है. विकास से कोसों दूर इस विधानसभा क्षेत्र कांटी में स्थानीय समस्याएं मतदाताओं के बीच हावी है.

बिहार में शराब बंदी के बाद भी मुजफ्फरपुर में सेब के कार्टून में मिली विदेशी शराब

लगातार नीचे गिर रहे जलस्तर के चलते पेय जल की समस्या, खराब सड़क और जल निकासी के अधूरे संसाधनों से उपजी जलभराव की समस्या के अलावा बेहतर संभावनाएं होने के बावजूद पर्यटन क्षेत्र में ठहराव और रोजगार यहां के मतदाताओं की प्रमुख समस्याएं हैं.

विधानसभा क्षेत्र कांटी के मतदाताओं की बात करें तो यहां कुल 305168 मतदाता है. इनमें 162986 पुरुष मतदाता तो वही 142474 महिला वोटर है. अब तक के चुनावी रुझान से विधानसभा कांटी क्षेत्र से एनडीए ने जनता दल यूनाइटेड के मोहम्मद जमाल को टिकट देकर सीट अपने कब्जे में करने की रणनीति बनाई है. वहीं लोक जनशक्ति पार्टी भी यहां प्रमुख पार्टी के रूप में अपना स्थान रखती है. अब तक पार्टी ने अपना उम्मीदवार तय नहीं किया है.

जबकि विधानसभा कांटी क्षेत्र से दो बार चुनाव जीत चुके अजीत कुमार भी निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अपना दावा ठोक चुके हैं. राजनीतिक जानकार दावा कर रहै हैं कि पिछली विधानसभा चुनाव के तरह ही इस बार भी विधानसभा क्षेत्र कांटी में त्रिकोणी टक्कर देखने को मिल सकती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें