मुजफ्फरपुर: लाल खतरे से ऊपर बागमती, गंडक और बूढ़ी गंडक, शहरी इलाकों पर संकट

Smart News Team, Last updated: Tue, 6th Jul 2021, 10:57 PM IST
राज्य में बागमती, गंडक और बूढ़ी गंडक नदी का उफान बढ़ गया है. नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं. सैकड़ों लोगों ने दोनों तटबंध पर शरण ले रखी है. मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों तक भारी बारिश की आंशका जतायी है इससे इन इलाकों में बाढ़ की स्थिति और भयावह होने की आशंका है।
मुजफ्फरपुर: लाल खतरे से ऊपर बागमती, गंडक और बूढ़ी गंडक, शहरी इलाकों पर संकट

मुजफ्फरपुर. राज्य में बाढ़ की स्तिथि दिन प्रतिदिन भयावह होती जा रही है. देखा जाए तो तीनों प्रमुख नदी तटबंध के अंदर ही है लेकिन बाढ़ की तबाही जारी है. बाढ़ के कारण रेल परिचालन भी प्रभावित हो रहा है. सोमवार को बागमती नदी खतरे के निशान से करीब दो मीटर, गंडक खतरे के निशान से 13 सेमी ऊपर बह रही थी, वहीं बूढ़ी गंडक के जलस्तर में भी 37 सेमी की बढ़ोत्तरी हुई है, जिससे नदी किनारे बसे मोहल्लों पर दबाव बढ़ गया है. नदी के आसपास रहने वाले लोगों का डर बढ़ता ही जा रहा है.

जिले में बाढ़ के तेवर नरम नहीं पड़ रहे हैं. सोमवार का देखा जाए तो खतरे का निशान 51.87 पर है और बूढ़ी गंडक नदी का जलस्तर 52.53 रहा. वहीं बागमती नदी का लाल निशान 57.30 पर है लेकिन सोमवार को नदी 55.23 पर बही तो रविवार को बागमती नदी का जलस्तर 57.00 तक पहुंच गया. ऐसे ही गंडक का खतरे का निशान 54.34 पर है सोमवार को नदी 54.41 पर रही वहीं रविवार को इसका जलस्तर 54.54 तक पहुंच गया था.

बाढ़ की वजह से बिहार से UP-दिल्ली जाने वाली कई ट्रेनों का रूट चेंज, शेड्यूल

बागमती नदी के इस तेवर से औराई, कटरा व गायघाट में लोगों का जीवन संकट में पड़ गया है. सैकड़ों लोगों ने दोनों तटबंध पर शरण ले रखी है जिन तक अभी तक कोई सरकारी सहायता नहीं पहुंची है. तीनों ही प्रखंड में तटबंध के अंदर बसे गांवों की स्थिति बेहद खराब हो गई है और लोग माल मवेशी समेत बाहर आ गए हैं. साहेबगंज व पारू में तटबंध के अंदर के पंचायतों में बाढ़ का पानी घुसने लगा है. पानी के दबाव के कारण स्लुईस गेट बंद कर दिए गए हैं लेकिन बांध किनारे बसे मोहल्लों में पानी का दबाव अचानक बढ़ गया है. मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों तक भारी बारिश की आंशका जतायी है इससे इन इलाकों में बाढ़ की स्थिति और भयावह होने की आशंका है।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें