मुजफ्फरपुर: पुलिस ने बंद की 5 मर्डर केस की जांच, 26 साल बाद भी नहीं मिले सबूत

Smart News Team, Last updated: 02/10/2020 09:27 AM IST
  • मुजफ्फरपुर पुलिस ने 5 मर्डर केस की जांच बंद कर दी है क्योंकि 26 साल बाद भी उन्हें मामले के सबूत नहीं मिले हैं. कोर्ट में पुलिस ने कौशलेंद्र शुक्ला उर्फ छोटन शुक्ला समेत पांच लोगों की हत्या मामले में फाइनल रिपोर्ट जमा करवा दी है.
मुजफ्फरपुर: पुलिस ने बंद की 5 मर्डर केस की जांच, 26 साल बाद भी नहीं मिले सबूत

मुजफ्फरपुर. पुलिस ने कौशलेंद्र शुक्ला उर्फ छोटन शुक्ला समेत पांच लोगों की हत्या की जांच बंद कर दी है. पुलिस को घटना के 26 साल बाद भी मामले में कोई सबूत नहीं मिले हैं. इसी कारण पुलिस ने कोर्ट में फाइनल रिपोर्ट दाखिल करते हुए जांच बंद कर दी है. अपनी रिपोर्ट में पुलिस ने कहा है कि अपराधियों ने छोटन शुक्ला समेत पांच की गोली मारकर हत्या कर दी थी. लेकिन इसके सबूत नहीं मिल पाए हैं.

हालांकि पुलिस का कहना है कि भविष्य में साक्ष्य मिलने पर घटना की फिर से जांच करायी जा सकती है. अभी के लिए पुलिस फाइनल रिपोर्ट में जांच और केस डायरी को बंद कर रही है. इसकी फाइनल रिपोर्ट कोर्ट में जमा होने पर पूर्व विधायक के अधिवक्ता सुशील कुमार सिंह ने पुलिस की भूमिका पर सवाल उठाया. उन्होंने घटना के 26 साल बाद भी अपराधियों की पहचान व कार्रवाई नहीं होने पर नाराजगी जाहिर की. 

फोटो वीडियो: राहुल, प्रियंका का हाथरस मार्च ग्रेटर नोएडा में रोका, अरेस्ट, रिहा

गौरतलब हो कि चार दिसंबर 1994 को चांदनी चौक के पास कार में सवार छोटन शुक्ला और उनके चार समर्थकों की हत्या कर दी गई थी. घटना के समय छोटन शुक्ला केसरिया से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे. वैशाली के लालगंज के जलालपुर निवासी रेवती रमण शुक्ला उर्फ चिकरू शुक्ला, समस्तीपुर के कल्याणपुर निवासी नारायण झा, पूर्वी चंपारण के केसरिया निवासी ओमप्रकाश सिंह की हत्या की गई थी. मारे गए सभी में से एक की पहचान नहीं की जा सकी थी.

मुजफ्फरपुर: यात्रियों से भरी बस पलटी, दो यात्री की हालत गंभीर

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें