प्रॉपर्टी डीलर मर्डर: आयुष ने कत्ल से पहले की थी रेकी, इस तरह बनाई गई थी साजिश

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Jul 2021, 12:05 AM IST
25 जून को शिवहर के प्रोपर्टी डीलर नवल किशोर सिंह हत्याकांड में पुलिस ने आयुष सिंह को पुनः गिरफ्तार किया है. जिसके बाद आयुष ने हत्या में शामिल सभी आरोपियों की जानकारी पुलिस को दी. उसने यह भी कबूला की उसे नवल की रेकी के लिए कहा गया था लेकिन लॉकडाउन के चलते वह बिना हत्या करे ही बनारस चला गया था.
प्रॉपर्टी डीलर मर्डर: आयुष ने कत्ल से पहले की थी रेकी, इस तरह बनाई गई थी साजिश

मुजफ्फरपुर. 25 जून को शिवहर के प्रोपर्टी डीलर नवल किशोर सिंह की हत्या कर दी गई थी. जिसके बाद अब हत्याकांड में शामिल सीतामढ़ी के सुप्पी निवासी आयुष सिंह को अहियापुर थाने की पुलिस ने शुक्रवार को कोर्ट में पेश किया. सुनवाई के बाद उसे कोर्ट ने न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. पुलिस आयुष के पास से एक पिस्टल, कारतूस व चरस बरामद किया है. साथ ही आयुष ने पुलिस के सामने नवल किशोर सिंह की हत्या के लिए मार्च में रेकी करने की बात भी कबूल की है और हत्याकांड से जुड़े सभी आरोपियों की जानकारी भी पुलिस को दी. जिसकी पुष्टी अहियापुर थानेदार सुनील कुमार रजक ने की.

बता दें कि इससे पहले भी आयुष के खिलाफ आर्म्स और एनडीपीएस एक्ट दर्ज किया है. पुलिस ने दूसरी बार आयुष की गिरफ्तारी की है. नवल की हत्या में पुलिस को आयुष की हत्या में मौजूदगी की भनक लगी तो एसटीएफ के पुलिस अधिकारी व पदाधिकारी की एक टीम बनारस पहुंची. जहां उसे एक किराये के मकान के तीसरी मंजील से गिरफ्तार किया था लेकिन उसने कहा वह हत्या में शामिल नहीं था. इसके बाद उसके पिता को पीआर बॉन्ड व जिम्मेनामा पर छोड़ दिया गया. लेकिन फिर से पुलिस को सूचना मिली की आयुष ने नवल की हत्या के लिए लॉक डाउन से पूर्व रेकी की थी. अब सिर्फ आयुष की गिरफ्तारी से हत्याकांड का खुलासा हो सकता था जिसके बाद गुरुवार को पुलिस ने दोबारा आयुष को बैरिया गोलंबर के पास से दबोच लिया.

मुजफ्फरपुर: BJP नेता के भतीजे को लुटेरों ने मारी गोली, अस्पताल में भर्ती

 

पुलिस ने बताया कि आयुष दोबारा पकड़ा गया तो उसने सभी राज उगले. वह नवल की हत्या के लिए सहबाजपुर में एक जगह पिस्टल छिपाकर रखा था. जहां से पिस्टल और चरस बरामद किया गया. जिसे लेकर नया केस दर्ज किया गया है. साथ ही आयुष ने वारदात को अंजाम देने वाले शूटर और बाइक ड्राइव करने वाले समेत गिरोह आठ लोगों का नाम, पता और उसके काम की जानकारी दी है. आयुष ने बताया कि लॉकडाउन लगने के कारण वह नवल की हत्या किये बिना बनारस चला गया था. जिसके बाद अभिषेक और कन्हैया ने इस वारदात को अंजाम दिया. पहले उन्होंने रेकी की इसके बाद अभिषेक ने उसे गोली मारी और कन्हैया बाइक चला रहा था. सीसीटीवी से भी आयुष ने उन दोनों की पहचान की।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें