पोलियो नहीं तोड़ पाया मुजफ्फरपुर के शरद कुमार का हौसला, एशियन गेम्स में गोल्ड के बाद अब पैरा ओलंपिक में ब्रॉन्ज

MRITYUNJAY CHAUDHARY, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 6:40 PM IST
  • मुजफ्फरपुर के मोतीपुर के रहने वाले शरद कुमार ने टोक्यो पैरालंपिक कस्य पदक जीता. इससे पहले वह 2018 में एशियन पारा एथिलिट में हाई जम्प कर गोल्ड मेडल जीत चुके हैं.
पोलियो नहीं तोड़ पाया मुजफ्फरपुर के शरद कुमार का हौसला एशियन गेम्स में गोल्ड के बाद अब पैरा ओलंपिक में ब्रॉन्ज

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर के शरद कुमार ने टोक्यो पैरालंपिक में कांस्य पदक जीता है. शरद कुमार ने टोक्यो पैरालंपिक में ब्रॉन्ज मेडल हाई जम्प में जीता है. इससे पहले वह साल 2018 में एशियन पारा एथिलीट में 1.9 मीटर की हाईजम्प लगाकर गोल्ड मेडल भी जीत चुके हैं. जानकारी के अनुसार शरद दो साल की उम्र में ही पोलियोग्रस्त हो गए थे. जिसके चलते उनके शरीर के कुछ हिस्से पैरालाइस हो गए थे. शरद कुमार मोतिपुर के रहने वाले हैं.

शरद कुमार के साथ ही मरियप्पन थंगावेलु ने पुरुषों की हाई जम्प में सिल्वर मेडल हासिल किया हैं. उन्होंने हाई जम्प लगाते हुए रजक पदक को अपने नाम कर लिया. इस तरह से हाई जम्प में भारत के पास आज टोक्यो पैराओलंपिक में दो मेडल शामिल हो गए है. मरियप्पन और शरद दोनों ने ही शुरू से अपनी बढ़त बना कर रखी हुई थी. लेकिन शरद की 1.86 मीटर ऊंची जंप के तीनों प्रयास में नाकाम रहें. जिसके चलते वह गोल मेडल के दौड़ से बाहर हो गए.

सेना के जवान को मंहगा पड़ा प्यार, गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा हो गई धुनाई

मरियप्पन थंगावेलु ने 1.86 मीटर के मार्क को सफल जम्प किया. परन्तु वहीं अमेरिका के ग्रियू सैम ने 1.88 मीटर की जंप लगाते हुए गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया. टोक्यो पैरालंपिक में हाई जम्प में दो मेडल आ जाने से अब भारत के खाते में अभी तक कुल 10 पदक आ चुके है. जिसमें अभी तक जीते हुए  2 गोल्ड, 5 सिल्वर और 3 ब्रॉन्ज मेडल शामिल है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें