दर्जनों लोगों के आंख की रोशनी छीनने वाले मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल को प्रशासन ने किया सील

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 4th Dec 2021, 6:57 PM IST
  • मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में लापरवाही से दर्जनों लोगों के आंख की रोशनी चली गई थी. मुजफ्फरपुर में आंखफोड़वा कांड को करने वाले इस हॉस्पिटल को प्रशासन ने सील कर दिया है.
मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल सील

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में दर्जनों लोगों की रोशनी छीनने वाले मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल पर बिहार सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है. मुजफ्फरपुर प्रशासन ने मुजफ्फरपुर में आंखफोड़वा कांड को करने वाले इस हॉस्पिटल को सील कर दिया है. जानकारी के अनुसार मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल का दवा ‌भंडार‌ व‌ ओटी‌‌ शनिवार दोपहर मुजफ्फरपुर प्रशासन ने सील कर दिया है. काफी दिनों से बिहार में मुजफ्फरपुर के चर्चित ऑंखफोड़वा कांड को लेकर चर्चा हो रही थी. आखिर अब बिहार सरकार की तरफ से कार्रवाई करते हुए जिला प्रशासन और पुलिस की टीम जुरन छपरा स्थित मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल गई और वहां के गेट को ताला लगाते हुए हॉस्पिटल को सील कर दिया है. जब टीम हॉस्पिटल पहुंची थी तब उनके साथ मजिस्ट्रेट भी था और मजिस्ट्रेट की मौजूदगी में हॉस्पिटल के ऑपरेशन थिएयर, दवा दुकान और कार्यालय को सील कर दिया गया.

मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल के गेट पर लाल कपड़ा बांधकर बजाब्ता प्रशासन की मुहर लगाते हुए ठप्पा लगाया गया है. वहीं प्रशासन की तरफ से हुई इस कार्रवाई को देखने के लिए हॉस्पिटल में काफी भीड़ जुट गई थी. जिस टीम ने इस अस्पताल को सील किया उस टीम में अपर एसडीएम मनीषा और नगर डीएसपी रामनरेश पासवान मौजूद रहे. वहीं इस मामले को लेकर नगर डीएसपी रामनरेशन पासवान ने कहा कि उपर से मिले निर्देश के अनुसार हॉस्पिटल को सील कर दिया गया है. इसके साथ ही अस्पताल संचालक और डॉक्टर पर एफआईआर दर्ज करके तर्कसंगत और कानून सम्मत धाराएं लगाई गयी हैं.

मुजफ्फरपुर मोतियाबिंद कांड: जिन मरीजों के आंख में है परेशानी उनका पटना IGIMS में होगा इलाज

बता दें कि मुजफ्फरपुर आई हॉस्पिटल में कई लोगों ने अपने आंख के मोतियाबिंद का ऑपरेशन कराया था. जिसमें से धीरे धीरे कई लोगों की आंख में जलने की शिकायत आई और फिर उनकी आंख से पानी निकला. इसके बाद ही इन लोगों की आंख की रोशनी चली गई और उन्हें दिखाई देना बंद हो गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें