स्लॉट बुक कराने का झंझट खत्म, अब निजी अस्पतालों में भी मिलेगी कोरोना वैक्सीन

Smart News Team, Last updated: Sun, 6th Jun 2021, 2:36 PM IST
आयुष्मान भारत से जुड़े चुनिंदा अस्पताल व जिले के अस्पतालों में वैक्सीन उपलब्ध हो पाएगी. जो लोग पैसे देकर कोरोना वैक्सीन लेने में सक्षम हैं वे अब आसानी से टीकाकरण करा पाएंगे. नई नीति के तहत लोगों को स्लॉट बुक कराने झंझट से नहीं गुजरना होगा. जनता अस्पताल जा कर टीके का भुगतान करके टीकाकरण करा लेगी.
टीकाकरण में तेजी के लिए निजी अस्पताल के लिए टीका के कीमत पर बात जारी. (प्रतीकात्मक चित्र)

मुजफ्फरपुर : देशभर में वैक्सीन की किल्लत के कारण राज्यों को वैक्सीन की पर्याप्त आपूर्ति नहीं हो पा रही है. लोग वैक्सीन लगवाने के लिए स्लॉट बुकिंग करने में परेशानी झेल रहे हैं. ऐसे में राहत देने वाली खबर आ रही है कि अब निजी अस्पतालों में भी टीकाकरण की सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी हालांकि निजी अस्पतालों में वैक्सीन लगवाने के लिए लोगों को एक निश्चित शुल्क देना होगा लेकिन इससे वैक्सीन प्राप्त करने के नए द्वार खोल जाएंगे. जो लोग पैसे देकर टीका लेने में सक्षम हैं वे अब आसानी से टीकाकरण करा पाएंगे.

आपको बता दें कि आयुष्मान भारत से जुड़े चुनिंदा अस्पताल व जिले के बड़े अस्पतालों में वैक्सिन उपलब्ध हो पाएगी. राज्य सरकार ने निजी अस्पतालों के टीकाकरण कराने की तैयारी शुरू कर दी है. अभी टीके की कीमत पर बात हो रही है. जल्द ही यह सुविधा लोगों तक पहुंच पाएगी. अगले चरण तक निजी अस्पतालों में भी टीकाकरण हो सकेगा. इस नई नीति के अंतर्गत लोगों को स्लॉट बुक कराने जैसे झंझट से नहीं गुजरना होगा. लोग सीधा अस्पताल जाकर निर्धारित शुल्क का भुगतान कर टीकाकरण करा पाएंगे.

मुजफ्फरपुर में मालिक ने पालतू कुत्ते की आंख फोड़कर सड़क पर फेंका, FIR दर्ज, फरार

आयुष्मान भारत से इंपैनल्ड एक अस्पताल के संचालक डॉ. सुभाष कुमार कहते हैं कि निजी अस्पतालों को टीका राज्य सरकार ही उपलब्ध कराएगी और शुल्क लेकर निजी अस्पताल टीकाकरण करेंगे. हालांकि, कीमत निर्धारण को लेकर अभी निर्णय बाकी है. सरकार के निर्देशानुसार स्वास्थ्य विभाग पैनल के अंदर आने वाले अस्पताल और कुछ निजी अस्पतालों से इस टीकाकरण के बारे में बातचीत कर चुका है लेकिन कुछ आयुष्मान भारत के पैनल में आने वाले अस्पतालों के अलावा दूसरे निजी अस्पताल पीछे हटते नज़र आए. उन्होंने अपनी परेशानियां व समस्याएं स्वास्थ्य विभाग के सामने भी रखी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें