BRA बिहार विश्वविद्यालय में लगातार घटी छात्रों की संख्या, खराब माहौल है वजह

Smart News Team, Last updated: 12/12/2020 08:16 AM IST
  • बीआरए बिहार विश्वविद्याल में स्नातक की परीक्षा पार्ट-थ्री में एक लाख से छात्र परीक्षा देते थे अब ये संख्या 65 से 70 हजार रह गई है. छात्रों की लगातार गिरावट के पीछे का कारण शैक्षणिक स्तर में गिरावट है. बीआरए बीयू के कुलपति ने कहा है कि इसमें सुधार की कोशिश चल रही है और कोशिश है कि छात्र यहां से बाहर नहीं जाए. विवि से अराजक तत्वों को लगातार दूर किया जा रहा हैै.
बीआरए में छात्रों की संख्सा लगातार कम हो रही है. (प्रतीकात्मक फोटो)

मुजफ्फरपुर. बीआरए बिहार विश्वविद्याल में पिछले तीन चार सालों में छात्रों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है. एक समय में स्नातक की परीक्षा पार्ट-थ्री में एक लाख से छात्र परीक्षा देते थे अब ये संख्या 65 से 70 हजार रह गई है. छात्रों की लगातार गिरावट के पीछे का कारण शैक्षणिक स्तर में गिरावट है. बीआरएबीयू के कुलपति ने कहा है कि इसमें सुधार की कोशिश चल रही है और कोशिश है कि छात्र यहां से बाहर नहीं जाए. विवि से अराजक तत्वों को लगातार दूर किया जा रहा हैै.

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. हनुमान प्रसाद पाण्डेय ने कहा है कि हमारी कोशिश है कि यहां से छात्र बाहर नहीं जाए. विवि के महौल को सुधारने का प्रयास लगातार चल रहा है. परीक्षा को नियमित करने के लिए डिजिटाइजेशन पर काम चल रहा है.साथ ही नए कोर्स भी शुरू किये जा रहे हैं जिससे छात्रों को रूझान बढ़े और पढ़ाई को महौल बन सके. हमारा मकसद है कि छात्रों को सही मार्गदर्शन मिल सके और प्रतियोगी परीक्षा पास कर सकें. 

अविश्वास प्रस्ताव वोटिंग में फर्जी पंचायत समिति सदस्य, प्रखंड प्रमुख को हटाने की साजिश

लगातार छात्रों में कमी का कारण इस शैक्षणिक माहौल का खराब होना है. 2017 में कोई भी परीक्षा नहीं हुई थी जिस कारण ये सत्र जीरो सेशन हो गया. इसलिए तीन साल के स्नातक के कोर्स चार साल में पूरे हुए थे. परीक्षा नियंत्रक डा. मनोज कुमार ने कहा है कि हम लगातार इसमें बदलाव करने की कोशिश कर रहे हैं. पिछले सालों में इन कारणों से छात्रों को लेकर काफी समस्या हुई थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें