ट्रेनों की संख्या बढ़ते ही फिर शुरू रेलवे टिकटों में खेल, दलाल 680 रुपए टिकट का ले रहे 1200 रुपए

Smart News Team, Last updated: Tue, 15th Jun 2021, 7:51 AM IST
  • मुजफ्फरपुर में ट्रेनों की संख्या बढ़ने पर फिर से दलाल सक्रिय हो गए है. वह इस बार एक ट्रेन टिकट के लिए दोगुने से ज्यादा भी रकम ले रहे हैं. वह चके ऐसी का हो या स्लीपर का. इतना ही नहीं यात्रियों को वह टिकट के नाम से मिलता है फर्जी पहचान पत्र भी दे रहे हैं.
दलाल 680 रुपए रेलवे टिकट का 1200 रुपए ले रहे

बिहार में कोरोना लॉकडाउन को अनलॉक कर दिया गया है. अनलॉक होने के बाद लोगों ने फिर से ट्रेनों में सफर करना शुरू कर दिया है. जिसे देखते हुए कई ट्रेनों का संचालन फिर से शुरू कर दिया है. ऐसे में वहां पर ट्रेन टिकटों की दलाली करने वाली की चांदी हो गई है. स्टेशनों पर बहुत से ज्यादा टिकट काउंटर बन्द होने के कारण उसका फायदा यह उठा रहे है. टिकट दलाल 680 रुपए की टिकट का 1200 रुपए तक वसूल रहे है.

दिल्ली और महाराष्ट्र में कोरोना लॉकडाउन हटने के बाद वहां जाने के लिए लोग अपनी टिकट बुक करवा रहे है. साथ ही बहुत से यात्री वेटिंग और रिग्रेट के चक्कर से बचने के लिए दलालों के पास जा रहे है. जो टिकट के दाम से दोगुना से ज्यादा पैसे ले रहे है. जहां एक तरफ लोगों को कंफर्म टिकट नहीं मिल पा रहा है, वहीं दूसरी तरफ कंफर्म टिकट दलाल आसानी से उपलब्ध करा दे रहे है. 

पप्पू यादव की मुश्किलें बढ़ी, 2019 के केस में पटना कोर्ट से प्रोडक्शन वारंट जारी

इतना ही नहीं रेल यात्रियों से मनमाना किराया वसूल रहे दलाल उन्हें फर्जी पहचान पत्र भी उपलब्ध करवा रहे है. दलाल जिस नाम से ट्रेन की टिकट लोगों को उपलब्ध करवाते है, उसी नाम से फर्जी नाम और पता वाले पहचान पत्र भी उपलब्ध करवा रहे है. साथ ही बड़े पैमाने पर एडवांस टिकट को फर्जी पहचान पत्र से दलाल खपा रहे है. 

मिली जानकारी के अनुसार मुजफ्फरपुर से मुंबई जाने वाले स्लीपर का दाम 700 रुपए है. जिसे दलाल 1000 रुपए वसूल रहे है. साथ ही 900 की तत्काल टिकट पर 1500 रुपए वसूल रहे है. वहीं आनंद विहार जाने वाली आरक्षण टिकट 535 रुपए है, जिसका दलाल 800 रुपए वसूल रहे है. साथ ही तत्काल के 680 रुपए की टिकट का 1200 रुपए ले रहे है. इस गोरखधंधे के बारे में आरपीएफ इंस्पेक्टर वीपी वर्मा ने कहा कि टिकट दलालों के खिलाफ गोपनीय तरीके से जांच की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें