पशुपति पारस, प्रिंस राजा समेत 5 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुजफ्फरपुर कोर्ट में केस

Smart News Team, Last updated: Wed, 16th Jun 2021, 4:22 PM IST
  • मुजफ्फरपुर में चिराग पासवान के चाचा पशुपति पारस, चचेरे भाई प्रिंस राज और पांच अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है. लोजपा के सांसदों को भड़काने और पार्टी के खिलाफ साजिश रचने के मामले में राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ता कुंदन कुमार ने अपने वकील के माध्यम से मामला दर्ज कराया है.  
मुजफ्फरपुर कोर्ट में पशुपति पारस, प्रिंस राज समेत पांचों बागी सांसदों के खिलाफ केस दर्ज.

मुजफ्फरपुर. लोजपा की टूट सामने आने के बाद से बिहार राजनीति में हचलचल मची हुई है. लोजपा संस्थापक रामविलास पासवान के भाई पशुपति पारस समेत पांच सांसदों ने मिलकर चिराग पासवान के खिलाफ बगावत छेड़ दी और उन्हें राष्ट्रीय अध्यक्ष की कुर्सी से हटा दिया. यही नहीं इसके बाद चिराग पासवान ने पांचों बागियों को पार्टी से निष्कासित कर दिया. इसके बाद अब मुजफ्फरपुर के सदर थाना में पशुपति पारस, प्रिंस राज और पांच अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज कराया गया है. आरोप है कि लोजपा के खिलाफ साजिश रचने हुए जमुई सांसद चिराग पासवान को पार्टी से हटाते हुए कमान अपने हाथ में ली है. 

मुजफ्फरपुर सदर थाना के पताही के रहने वाले सामाजिक और राजनीतिक कार्यकर्ता कुंदन कुमार ने अपने वकील कमलेश कुमार के माध्यम से बुधवार को सीजेएम कोर्ट में मामला दर्ज कराते हुए पशुपति पारस, प्रिंस राज और पांच अज्ञात लोगों पर आरोप लगाए कि इन लोगों ने साजिश कर लोकजनशक्ति पार्टी से बगावत कर जमुई सांसद चिराग पासवान को पार्टी से हटा दिया और बागडोर अपने हाथ में ले ली. यह संसदीय मर्यादा का उल्लंघन है. सीजेएम कोर्ट ने केस को स्वीकार कर लिया है. कोर्ट ने 21 जून 2021 की तारीख सुनवाई के लिए तय की है.

चिराग का लोकसभा स्पीकर को पत्र- पशुपति पारस को नेता बनाना LJP संविधान के खिलाफ

बता दें कि चिराग पासवान ने आज लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला को पत्र भी लिखा है. उन्होनें पत्र में अपील करते हुए कहा है कि पशुपति कुमार को लोजपा का संसदीय दल नेता घोषित करना एलजेपी के संविधान के विपरीत है. इसी के साथ उन्होनें लिखा की यह फैसला लोजपा के नियमों के अनुसार नहीं है. पार्टी का अध्यक्ष ही संसदीय दल का नेता चुन सकता है. चिराग पासवान ने लोकसभा स्पीकर से अपील करते हुए कहा कि उन्हें संसदीय दल का नेता नियुक्त किया जाए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें