45 KG की यूरिया के बोरा के बदले 500 ML की इफको नैनो यूरिया खरीदने लगे किसान

Smart News Team, Last updated: Thu, 22nd Jul 2021, 11:49 PM IST
  • इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव लिमिटेड' यानी इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने ट्वीट कर कहा कि किसान अब 45 KG की यूरिया के बोरा के बदले 500 ML की इफको नैनो यूरिया खरीदने लगें हैं.
45 KG की यूरिया के बोरा के बदले 500 ML की इफको नैनो यूरिया खरीदने लगे किसान

मुजफ्फरपुर. इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर कोऑपरेटिव लिमिटेड' यानी इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने इफको नैनो यूरिया की बढ़ती मांग को लेकर लगी लंबी लाइन का फोटो अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया. जिसमें उन्होंने लिखा कि कोई सोच भी नहीं सकता था की 45 किलो का यूरिया का बोरा अब 500ml की बोतल में आ जायेगा. इफको नैनो यूरिया तरल को किसानों द्वारा पसंद किया जा रहा. कम दामों में अच्छे परिणाम देने वाला इफको नैनो यूरिया तरल की मांग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है.

इफको के प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने इफको नैनों यूरिया के बढ़ते प्रभाव पर अपने ट्वीट में लिखा कि यह है अद्भुत नजारा. किसान भाई इफको बाजार रामनगर पश्चिम चंपारण में नैनो यूरिया के लिए खरीदते हुए. कोई सोच भी नहीं सकता था की 45 किलो का यूरिया का बोरा अब 500ml की बोतल में आ जायेगा. इफको नैनो यूरिया करे किसान की लागत कम. साथ ही इस ट्वीट में डॉ. उदय शंकर अवस्थी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, मनसुख मंडविया और नरेंद्र सिंह तोमर को भी टैग किया.

पीएम किसान: 9वीं किस्त भेजने की तैयारी में सरकार, जानें कहां तक पहुंचा प्रोसेस

बता दें कि इफको नैनो यूरिया द्वारा यह दावा किया जाता है कि नैनो यूरिया के उपयोग से फसल उत्पादकता में सुधार होता है साथ ही यह देश को बड़ी समस्या प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग कम करने की दिशा में काम करता है क्योंकि यह मृदा, वायु इन जल निकायों को दूषित नहीं करता है. मालूम हो कि इसे दुनिया में पहली बार इफको द्वारा गुजरात के कलोल स्थित नैनो बायोटेक्नोलॉजी रिसर्च सेंटर में इफको की पेटेंटेड तकनीक से विकसित किया गया है. इसके प्रबंध निदेशक डॉ. उदय शंकर अवस्थी हैं जिन्होंने 31 मई, 2021 को नई दिल्ली में हुई प्रतिनिधि महासभा के सदस्यों की 50वीं वार्षिक आम सभा की बैठक के दौरान इस उत्पाद को दुनिया के सामने पेश किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें