मुजफ्फरपुर: आयोग ने पंचायत आम निर्वाचन चुनाव को लेकर प्रखंडों का मांगा विवरण

Smart News Team, Last updated: Sat, 12th Dec 2020, 2:01 PM IST
पंचायत आम निवार्चन 2020 मार्च से मई के बीच में कराए जाने की संभावना है।राज्य निर्वाचन आयोग ने इसको लेकर जिलाधिकारी को पत्र जारी किया है। जिसमें चरणवार प्रखंडों का विवरण मांगा गया है और इसके लिए अधिकतम दो सप्ताह का समय दिया गया है।
आयोग ने पंचायत आम निर्वाचन चुनाव को लेकर प्रखंडों का मांगा विवरण

मुजफ्फरपुर. पंचायत आम निवार्चन 2020 का चुनाव नए साल में मार्च से मई के बीच में कराए जाने की संभावना है। वहीं राज्य निर्वाचन आयोग ने इसको लेकर जिलाधिकारी को पत्र जारी किया है। जिसमें लिखा गया है कि विधानसभा चुनाव की तुलना में पंचायत निर्वाचन में मतदान केंद्रों की संख्या काफी अधिक बढ़ जाती है। यही वजह है कि पंचायत निर्वाचन में मतदान कर्मियों एवं सुरक्षा बलों की आवश्यकता भी बढ़ जाती है। 

बता दें पंचायत आम निर्वाचन को ध्यान में रखते हुए आयोग के सचिव की तरफ से कहा गया है कि केंद्रीय अद्र्धसैनिक बलों को मतदान केंद्रों पर प्रतिनियुक्त करने के लिए सरकार को पत्र लिखा गया है। वहीं सरकार की ओर से इसकी स्वीकृति प्रदान होने के बाद ही जिलों को इसकी सूचना दी जाएगी।

अविश्वास प्रस्ताव वोटिंग में फर्जी पंचायत समिति सदस्य, प्रखंड प्रमुख को हटाने की साजिश

वहीं कोरोना वायरस महामारी को ध्यान में रखते हुए और सुरक्षा कारणों से  मतगणना अनुमंडल मुख्यालय में बड़े हॉल में कराया जाना है। इसलिए अनुमंडल मुख्यालय में बज्रगृह के लिए भवन चिह्नित किया जाए। इसके साथ ही सुरक्षा अद्र्धसैनिक बल या जिला बल के द्वारा की जानी है। वहीं इस संबंध में एसएसपी तथा अन्य संबंधित पदाधिकारियों से विमर्श के बाद प्रस्ताव भेजे जाएगें।

आयोग की तरफ से यह भी कहा गया कि कितने चरण में आपके जिले में पंचायत निर्वाचन कराए जाएं। यह पंचायत आम निर्वाचन अधिकतम नौ चरण ही होगी। इसी संबंध में चरणवार प्रखंडों का विवरण मांगा गया है वहीं इसके लिए अधिकतम दो सप्ताह का समय दिया गया है। राज्य निर्वाचन आयोग ने दो सप्ताह के अंदर चरणवार प्रखंडों का विवरण उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है, ताकि राज्य सरकार को निर्वाचन कराए जाने का प्रस्ताव विचारार्थ भेजा जा सके।    

पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट से जुड़ा नियम जान लें, नहीं तो देना पड़ेगा जुर्माना

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें