होम्योपैथी, आयुर्वेद, यूनानी कॉलेजों में बिना NEET पास एडमिशन वालों की होगी जांच

Smart News Team, Last updated: 05/03/2021 09:20 AM IST
बिहार में नीट(नेशनल एलिजिबिलिटी कम इंट्रेंस टेस्ट) पास किए बिना ही होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी कॉलेजों में दाखिला किए जाने की शिकायत मिली है. इसकी जांच बीआरए बिहार विश्वविद्यालय  करेगा.
बीआरए बिहार विश्वविद्यालय

मुजफ्फरपुर. नीट(नेशनल एलिजिबिलिटी कम इंट्रेंस टेस्ट) पास किए बिना ही बिहार के होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी कॉलेजों में दाखिला किए जाने की शिकायत मिली है. इसको देखते हुए राज्य के सभी यूनानी, होम्योपैथी और आयुर्वेद कॉलेजों में हुए एडमिशन की जांच बीआरए बिहार विश्वविद्यालय करेगा. 

जांच में पता लगाया जाएगा कि होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी कॉलेजों में छात्रों का दाखिला किस आधार पर हुआ है. नीट पास वाले छात्रों का चल रहे सत्र में एडमिशन हुआ है या सीधे ही दाखिला दे दिया गया है. शिकायत मिलने के बाद बीआरए विवि प्रशासन जांच की प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है. 

बिहार: हाईकोर्ट ने हटाई एसटीईटी रिजल्ट पर लगी रोक, शुरू होंगी 37 हजार भर्तियां

बिहार के सभी होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी कॉलेज बीआरए बिहार विश्वविद्यालय द्वारा संचालित होते हैं. राज्य में करीब 20 कॉलेज हैं. सबसे ज्यादा होम्योपैथी कॉलेज हैं. बीआरए बिहार विश्वविद्यालय कॉलेज के छात्रों की सूची के साथ उनके नीट के कागज भी मंगाएगा. कुलसचिव डॉ. आरके ठाकुर ने कहा कि नीट के पास छात्रों का नामांकन होना है. कुछ शिकायतें आयी है, इसको देखते हुए एडमिशन को लेकर जांच कराई जाएगी. कॉलेज से छात्रों की लिस्ट मंगाई जाएगी. 

ICSE 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा का टाइमटेबल जारी, फुल डिटेल

आपको बता दें कि राज्य के होम्योपैथी, आयुर्वेद और यूनानी कॉलेजों में अब नीट पास छात्रों का दाखिला होना है. नीट पास होने के बाद काउंसिलिंग के माध्यम से एडमिशन किया जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें