मुजफ्फरपुर: 47 दिनों से लगी आचार संहिता हटते ही निर्माण कार्य शुरू

Smart News Team, Last updated: Sat, 14th Nov 2020, 10:51 AM IST
  • बिहार विधानसभा के बाद राज्य में अधूरे पड़े सभी निर्माण कार्य को पूरा करने की कवायत शुरू हो गई है. जिसके लिए पथ निर्माण विभाग ने रुपए भी निर्धारित कर दिए हैं. इनमें सात सड़कों का काम शुरू होने वाला है.
मुजफ्फरपुर में बिहार चुनाव के लिए लगी आचार संहिता हटते ही निर्माण कार्य शुरू हो गए हैं. (प्रतीकात्मक फोटो)

मुजफ्फरपुर. बिहार विधानसभ चुनाव के खत्म होने के बाद प्रदेश में 47 दिनों से लगी आचार संहिता हट गई है. जिसके हटते ही राज्यभर में रुके हुए विकास कार्य और योजनाओं पर पंख लग गए हैं. इसके लिए पथ निर्माण विभाग ने भी कमर कसते हुए गांवों से शहर को जोड़ने वाली सड़कें और कुछ सड़कें जो शहरों में खराब स्थिति में है उन्हें दुरस्त करने का काम शुरू हो गया है. विभाग की तरफ से जारी किए गए 151 करोड़ में सात सड़कों के निर्माण के लिए आवंटित किए गए हैं. जिनमें अगले सप्ताह से तीन पर कार्य भी आरंभ हो जाएगा.

वहीं, बची हुई चार सड़कों के लिए अभी टेंडर नहीं भरे जा सके और जिसकी प्रक्रिया जारी है. इसके साथ ही जिनपर काम शुरू होने वाला है उसमें मिठनपुरा से पानी टंकी तक की सड़क है जो कि बारिश के कारण काफी खराब हो गई थी. साथ ही कांजीइंडा से मणिका बांध तक जो सड़क है उसका विकास 24 करोड़ में होगा. आखिर और तीसरी सड़क जिसका निर्माण आगामी हफ्ते से शुरू होना है उसमें तुर्की से सरैया को जोड़ने वाली सड़क है जो 40 करोड़ में बनेगी.

दीपावली पर प्रशासन तैयार, जिले में 30 फायर ब्रिगेड की गाड़ियां तैनात

इसके अलावा जो शेष चार है उनमें जवाहरलाल रोड, भामा साह द्वार से ब्रह्मपुरा तक की सड़क का 11 करोड़ में विकास होना है. इसके लिए चार एजेंसियों ने टेंडर प्रक्रिया के लिए आवेदन पहले से कर रखा है. जबकि मस्जिद चौक से कांजीइंडा तक 25 करोड़ में बनने वाली सड़क के लिए फाइनेंशियल बिड अगले सप्ताह होगी. इसके अतिरिक्त रामचंद्रा से बाघी जाने वाली सड़क के लिए 26 करोड़ रुपये निर्धारित है जिनमें चार एजेंसियों ने अपनी रुचि दिखाई है. इन कार्यों पर ग्रामीण कार्य विभाग के अधीक्षण अभियंता ने कार्यपालक अभियंताओं से बाढ़ के कारण बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई सड़कों के विकास को प्राथमिकता के आधार पर पूरा करने के निर्देश दिए हैं.

बिहार पुलिस भर्ती प्रक्रिया शुरू, CSBC ने निकाली 8415 वैकेंसी, जानें डिटेल्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें