मुजफ्फरपुर सिविल कोर्ट में नहीं शुरू हुआ कोविड वैक्सीनेशन, वकीलों ने जताया रोष

Smart News Team, Last updated: Sun, 16th May 2021, 9:47 PM IST
  • मुजफ्फरपुर में तय समय के बावजूद सिविल कोर्ट पीएचसी में कोरोना वैक्सीनेशन शुरू नहीं हो सका. वैक्सीनेशन में हो रही देरी के कारण अधिवक्ताओं में रोष देखने को मिला है. इस संबंध में प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश से जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और एडवोकेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बातचीत की है.
सिविल कोर्ट पीएचसी में नहीं शुरू हो सका कोरोना वैक्सीनेशन

मुजफ्फरपुर. जिले में सिविल कोर्ट पीएचसी में कोविड वैक्सीनेशन तय समय के बाद भी शुरू नहीं हो सका. जिस कारण वकीलों में वैक्सीनेशन में हो रही देरी को लेकर गुस्सा भरा हुआ है. इस संबंध में प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश से जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और एडवोकेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बातचीत में कहा है कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से वकीलों को फ्रंट लाइन वर्कर बताया गया है. जिन्हें प्राथमिकता देते हुए सबसे पहले कोविड का टीका दिया जाना है. लेकिन अभी तक अधिवक्ताओं को वैक्सीन की डोज नहीं दी गई है.

कोरोना के खतरे को देखते हुए एसोसिएशन की ओर से अधिवक्ताओं को कोरोना वैक्सीन लगाने की मांग की गई थी. जिसके लिए दस मई को प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश राकेश मालवीय ने जिलाधिकारी प्रणव कुमार को पत्र लिखा था. लेकिन सिविल कोर्ट परिसर में स्थित पीएचसी में किसी वजह से तय समय पर टीकाकरण शुरू नहीं हो सका. जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष नवल किशोर सिन्हा और एडवोकेट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष रामशरण सिंह ने इस संबंध में प्रभारी जिला एवं सत्र न्यायाधीश से संवाद किया है.

पटना में कोरोना संक्रमित को अस्पताल बुलाकर भी नहीं किया भर्ती, एंबुलेंस में ही मौत

बता दें कि बिहार में पिछले 24 घंटे में 1,20,271 सैम्पलों की कोरोना जांच की गई है. वहीं रविवार को पूरे राज्य में 6,894 कोविड पॉजिटिव जांच के दौरान पाए गए. इस अवधि में राजधानी पटना में सबसे अधिक नए कोरोना संक्रमित 1,103 की पहचान की गई है. इसके अलावा राज्य के 24 जिलों में 100 से अधिक नए कोरोना मरीज सामने आएं है. लॉकडाउन के बाद से बिहार में नए कोरोना संक्रमितों में धीरे-धीरे कमी आ रही है. एक दिन पूर्व शनिवार को राज्य में 7,336 कोरोना के नए मरीज मिले थे.

बिहार में लागू हुई कोरोना लॉकडाउन की नई गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और बंद रहेगा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें