लापरवाही! आईओ नहीं होमगार्ड दाखिल करा रहे कोर्ट में चार्जशीट, अपराधियों को फायदा

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Dec 2020, 12:30 PM IST
  • मुजफ्फरपुर जिले के अभियोजन अधिकारी जेसी भारद्वाज ने एसएसपी को पत्र लिखकर अपराधिक मामलों में पुलिस द्वारा बरती जा रही लापरवाही के बारे में बताया है. साथ ही कहा है कि पुलिस की लापरवाही का फायदा सीधा अपराधियों को मिल रहा है.
police

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर में पुलिस के स्तर पर अपराधिक घटनाओं में जांच से लेकर कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने तक लापरवाही बरती जा रही है जिसका सीधा फायदा अपराधियों को मिल रहा है. जांच में लापरवाही होने से अपराधी जमानत पर बाहर आ जाते हैं. जिससे उनके खिलाफ कोर्ट में भी कार्यवाही नहीं हो पाती है. इस मामले पर अब जिला अभियोजन अधिकारी जेसी भारद्वाज ने एसएसपी को पत्र लिखा है.

पुलिस की तरफ से बरती जा रही लापरवाहबी को लेकर पत्र में चिंता जाहिर की गई है. जिला अभियोजन अधिकारी ने लिखा है कि सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन नहीं किया जा रहा है. जांच में की गई गलतियों के बारे में जांच अधिकारी को कई बार पत्र के जरिए सूचित किया जाता है लेकिन कार्यवाही नहीं हो रही है. 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट और अभियोजन यानि प्रोसिक्यूशन स्वीकृति के साथ चार्जशीट दाखिल नहीं हो रही है. वहीं कई अपराधिक मामलों में जांच अधिकारी के बदले होमगार्ड जवान कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करते हैं. इससे पहले अभियोजन अधिकारी जार्चशीट की समीक्षा करते हैं. 

मुजफ्फरनगर नगर निगम के विस्तार के बाद तीन से चार गुणा बढ़ेंगे जमीन के दाम

आईओ की अनुपस्थिति से समीक्षा के दौरान मामले की जांच में हुई गलतियों को सुधारने का मौका नहीं मिलता है इसी के साथ विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट सालों तक लटकाकर रखी जाती है. 

शादी के 5 दिन बाद ससुराल वालों से मांगा संपत्ति में हिस्सा, पत्नी ने कराई FIR

जिला अभियोजन अधिकारी जेसी भारद्वाज ने उदाहरण देते हुए बताया कि मीनापुर थाने में दर्ज दहेज हत्याकांड में पुलिस ने घटना के दस साल बाद फॉरेंसिक की रिपोर्ट दाखिल की है जबकि रिपोर्ट को एक महीने में दाखिल होना चाहिए था. 

नए साल में बिहार में ढाई लाख नौकरियों की बहार, जानें कौन से हैं वो विभाग

एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि अनुसंधान को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक कार्य किए जा रहे हैं और इस संबंध में आदेश भी जारी किए गए हैं. वहीं जिला अभियोजन अधिकारी की तरफ से भेजे गए पत्र का जल्द ही जवाब दिया जाएगा. 

सेना में भर्ती के समय गलत पते को बदलने के लिए विज्ञापन और शपथ पत्र देना जरूरी  

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें