पटना में एमआरपी से अधिक दाम पर दवा खरीदने के मामले में, मुजफ्फरपुर के ड्रग इंस्पेक्टर सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: Thu, 1st Apr 2021, 1:59 PM IST
  • मुजफ्फरपुर में ड्रग इंस्पेक्टर विकास शिरोमणि पर पटना में जुलाई 2008 से 2011 तक सेवा में रहने के दौरान आवश्यकता से ज्यादा व एमआरपी से अधिक मूल्य पर दवा खरीदने का आरोप है. विभाग की ओर से ड्रग इंस्पेक्टर की बर्खास्तगी का पत्र आया है.
पटना में एमआरपी से अधिक दाम पर दवा खरीदने के मामले में मुजफ्फरपुर के ड्रग इंस्पेक्टर सस्पेंड ( सांकेतिक फोटो )

मुजफ्फरपुर। मुजफ्फरपुर में एक 10 साल पुराना घोटाला सामने आया है. मुजफ्फरपुर के शहरी इलाके के ड्रग इंस्पेक्टर विकास शिरोमणि पर पटना में जुलाई 2008 से 2011 तक सेवा में रहने के दौरान आवश्यकता से ज्यादा व एमआरपी से अधिक मूल्य पर दवा खरीदने का आरोप है. उनकी बर्खास्तगी का विभागीय आदेश मिलने पर सिविल सर्जन डाॅ. एसके चौधरी ने सहायक औषधि नियंत्रक को वैकल्पिक व्यवस्था करने के लिए कहा है. विकास शिरोमणि 4 जुलाई 2016 से मुजफ्फरपुर में ही कार्यरत रहे.

इनके खिलाफ 2013 से जांच चल रही थी. इन पर आरोप है कि सरकार के 12 करोड़ 63 लाख 52 हजार 970 रुपए बेवजह खर्च किए. पटना में पदस्थापित रहने के दौरान पीएमसीएच में कार्यालय अधीक्षक, लेखापाल, संबंधित क्रय लिपिक के मेल से एमआरपी से अधिक मूल्य पर दवा व मशीन-उपकरण निर्माता कंपनी की दर से काफी अधिक दर पर खरीद की. साथ ही बिना किसी आकड़े के जानबूझ कर खपत से कई गुना अधिक मात्रा में दवाएं खरीदी गईं. जांच में इनकी दवा विक्रेता से मिलीभगत के स्पष्ट साक्ष्य मिले. इसे लेकर विभागीय जांच शुरू की गई थी. गठित आरोप जांच में उनको प्रमाणित पाया गया. जिसके बाद 26 मार्च 2021 को उनके लिए बर्खास्तगी का आदेश आया.

बिहार के डॉक्टर अवनीश कुमार को मिली प्रतिष्ठित न्यूटन अंतरराष्ट्रीय फेलोशिप, अगले दो साल यूनिवर्सिटी ऑफ़ एडिनबर्रा में करेंगे शोध

घोटाले से संबंधित कोई ठोस आंकड़ा नही मिलने के कारण यह स्पष्ट नहीं हो सका की सरकार को कितने राजस्व का नुकसान हुआ है. लेकिन, जांच प्रतिवेदन में आरोप प्रमाणित पाए जाने पर अनुशासनिक प्राधिकार ने बिहार सरकारी सेवक (वर्गीकरण, नियंत्रण व अपील) नियमावली के तहत विकास शिरोमणि को सेवा से बर्खास्त किया है. इस निर्णय पर बिहार लोक सेवा आयोग की सहमति व मुख्यमंत्री का भी आदेश प्राप्त है. उधर, विकास शिरोमणि ने कहा कि वे सरकार के इस फैसले काे काेर्ट में चुनाैती देंगे.

BSEB 10th Result : अप्रैल के पहले हफ्ते में जारी हो सकता है रिजल्ट

सिविल सर्जन, डाॅ. एसके चौधरी ने बताया कि विभाग की ओर से ड्रग इंस्पेक्टर विकास शिरोमणि की बर्खास्तगी का पत्र आया है. उसके आधार पर उचित कार्रवाई की जा रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें