मुजफ्फरपुर में मना बाढ़ सुरक्षा सप्ताह, लोगों को बताए गए सुरक्षात्मक उपाय

Smart News Team, Last updated: Mon, 7th Jun 2021, 3:56 PM IST
  • बिहार के मुजफ्फरपुर में बाढ़ सुरक्षा सप्ताह मानते हुए जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मोहम्मद साकिब खान ने लोगों को विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से जागरूकता का संदेश दिया. जिसमें उन्होंने बताया कि बाढ़ में डूबने वाले लोगों में 3 वर्ष से 20 वर्ष आयु के की संख्या ज्यादा है. इसलिए बाढ़ के समय बच्चों का खास ख्याल रखना चाहिए.
मुजफ्फरपुर में बाढ़ सुरक्षा सप्ताह मनाया गया.(प्रतीकात्मक फोटो)

मुजफ्फरपुर. बिहार और बाढ़ का पुराना रिश्ता रहा है. देश में बाढ़ से सबसे प्रभावित राज्यों में एक राज्य बिहार भी है. जहां हर वर्ष बिहार का एक बड़ा क्षेत्र बाढ़ के पानी में डूब जाता है. बाढ़ सुरक्षा सप्ताह के तहत् रविवार को मुज़फ्फरपुर के जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मोहम्मद साकिब खान ने विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से लोगों को बाढ़ के बारे में सुरक्षात्मक जानकारी देते हुए जागरूकता का संदेश दिया. इस दौरान उन्होंने बताया कि बाढ़ में 67.74 डूब के मरने वालों में 3 वर्ष से 20 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों की संख्या ज्यादा है. इसलिए बाढ़ के दौरान बच्चों का खास ख्याल रखना बहुत जरूरी है.

साथ ही उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए बताया कि इस तरह के अप्रिय घटनाओं से बचाने के लिए युवाओं को जागरूक बनाने की सख्त जरूरत है. ताकि बाढ़ में डूबने की घटनाओं में ज्यादा से ज्यादा कमी लाई जा सके. इस बीच जिले के लोगों को आदर्श नौका नियमावली और आपदा प्रबन्धन विभाग के तरफ से जारी मानक संचालन प्रक्रियाओं से भी नाव मालिकों एवं नाविकों को बताया गया. साथ ही युवा स्वंमसेवकों, गोताखोरों, नाविकों तैराकों डूबने और नाव दुर्घटना के बारे में जानकारी दी गई. 

आयकर विभाग आज लॉन्च करेगा नया ई-फाइलिंग पोर्टल, जानें विशेषताएं

वहीं दूसरी तरफ इस कार्यक्रम में बिहार सरकार के तरफ से चलाई जा रही मुख्यमंत्री सुरक्षित तैराकी कार्यक्रम में लोगों को ज्यादा से ज्यादा जुड़ने की अपील की गई. ताकि बाढ़ के समय ज्यादा से ज्यादा लोग सुरक्षा काम के लिए उपल्ब्ध हो और अपने साथ साथ आसपास के लोगों और उनके जानमाल का बचाव कर पाए. साथ ही चल रहे कार्यक्रम में अंचल कार्यालय में सोमवार को आयोजित होने वाले टीकाकरण की भी जानकारी दी गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें