गैंगरेप नाबालिग पीड़िता ने दिया बच्चे को जन्म, आरोपियों के खिलाफ केस करने पर तेजाब से जला देने की मिली धमकी

Pallawi Kumari, Last updated: Sun, 12th Sep 2021, 9:06 AM IST
  • नाबालिग लड़की का अपहरण कर उससे कई महीनों तक गैंगरेप किया गया. हाल ही में नाबालिग पीड़िता ने एक बच्चे को जन्म दिया. इसके बाद उसे लगातार केस ना करने की धमकी मिल रही है. आरोपी उसे केस करने पर तेजाब से जला देने की धमकी दे रहे हैं.
गैंगरेप नाबालिक पीड़िता को केस करने पर तेजाब फेंकने की मिली धमकी. फोटो साभार-हिन्दुस्तान

मुजफ्फरपुर: बिहार मुजफ्फरपुर के जिले से नाबालिग से कई महीनों तक गैंगरेप कर उसे गर्भवती करने की सनसनीखेज वारदात सामने आई है. मामला गाययघाट थाना क्षेत्र के एक गांव का है. गांव के ही लोमा पंचायत के पूर्व मुखिया मनोज सहनी और उसके साथियों पर एक नाबालिग लड़की के साथ करीब एक साल तक अपहरण कर उससे गैंगरेप करने का आपोप है. इस मामले में शनिवार को गायघाट थाना में एफआईआर दर्ज कराई गई है.

17 साल की नाबालिग ने एफआईआर में आरोपियों पर अपहरण, अपहरण की साजिश रचने व धमकी देकर रेप करने का आरोप लगाया गया है. एफआईआर में पूर्व मुखिया के अलावा दो सगे भाइयों कंचन सहनी, सोनू सहनी, इनके माता-पिता को नामजद व तीन अज्ञात को आरोपित किया गया है.पूर्व मुखिया मनोज सहनी की पत्नी अभी गांव की मुखिया है.

बिहार में बदमाशों का शिकार हुए भगवान राधा-कृष्ण, 250 साल पुरानी मूर्ति चोरी, कीमत 1 करोड़

थानाध्यक्ष नरेंद्र कुमार ने बताया कि, घटना के समय  पीड़िता 16 साल की थी. पीड़िता के आवेदन पर पॉक्सो एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है. आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कार्रवाई की जा रही है. पुलिस के मुताबिकत पीड़िता ने बताया कि, लड़की आवासीय बनवाने के लिए मुखिया के घर गई थी. वहीं से उसे अपहरण लिया गया. 

इसके बाद उसे नौ महीने तक अलग अलग जगहों पर ले जाकर गैंगरेप किया गया. आरोपी लगातार नाबालिग को शिकायत ना करने की धमकी देते रहे . आरोपियों ने मुंह खोलने पर परिवार को जान से मारने की धमकी दी. बीते 15 अगस्त को नाबालिग लड़की ने एक बच्चे को जन्म दिया. गर्भवती होने के बाद आरोपियों ने उसे घर लाकर छोड़ दिया. बच्चे के जन्म बाद आरोपियों ने मारपीट की और केस करने पर तेजाब से जला देने की धमकी दी.

वाराणसी में PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में फिर हादसा, 1 की मौत, 2 घायल

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें