सरकारी अस्पतालों में हाथों-हाथ नौकरी पाने का सुनहरा मौका, वॉक इन इंटरव्यू शुरू

Smart News Team, Last updated: Wed, 12th May 2021, 1:06 PM IST
  • युवाओं को मुजफ्फरपुर के सरकारी अस्पतालों में काम करने का मौका मिल सकता है और वह भी हाथों हाथ. यहां अस्पताल में रोजगार पाने के लिए पहले आवेदन करने और फिर परीक्षा देकर नतीजों का इंतजार करने की जरूरत नहीं है.
सरकारी अस्पतालों में हाथों-हाथ नौकरी पाने का सुनहरा मौका, वॉक इन इंटरव्यू शुरू

मुजफ्फरपुर। पूरे भारत में कोरोना की दूसरी लहर से हर तरफ तबाही मची हुई है. हर राज्य हर शहर में हाहाकार मचा हुआ है. वहीं दूसरी कुछ लोगों के लिए यही तबाही आपदा में अवसर बनकर सामने आई है. कोरोना की ऐसी स्थिति में भी लोगों को रोजगार के अवसर मिल रहे हैं. रोजगार के इस अवसर के तहत युवाओं को मुजफ्फरपुर के सरकारी अस्पतालों में काम करने का मौका मिल सकता है और वह भी हाथों हाथ. यहां अस्पताल में रोजगार पाने के लिए पहले आवेदन करने और फिर परीक्षा देकर नतीजों का इंतजार करने की जरूरत नहीं है.

भर्ती के लिए अस्पताल में सिविल सर्जन की देखरेख में इंटरव्यू की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. पहले ही दिन वाक इन इंटरव्यू के आधार पर करीब 56 चिकित्सकों का चयन किया जा चुका है. जिन्हें फौरन ही कोरोना प्रोटोकाल की जानकारी देकर काम पर लगाए जाने की तैयारी की जा रही है. वहीं अस्पताल में एएनएम, लैब टेक्निशियन, मूर्छक, मेडिसिन एमडी, जीएनएम, एनएम, मल्टी टास्किंग वर्कर,वार्ड ब्वाॅय व डाटा ऑपरेटर की बहाली की जाएगी. इस भर्ती अवसर के मुताबिक इसमें मेडिकल की पढ़ाई करने वाले या सामान्य पढ़ाई करने वाले, दोनों ही श्रेणी के अभ्यर्थियों को अस्पताल में नौकरी पाने का मौका मिल सकता है.

Ramadan 2021:बिहार, झारखंड और MP के 10 बड़े शहरों में 12 मई को रोजा इफ्तार टाइम

इस तत्काल भर्ती के बारे में मुजफ्फरपुर के सिविल सर्जन डॉ.एसके चौधरी ने बताया कि पहले दिन वाक इन इंटरव्यू के आधार प 56 चिकित्सक चुने गए हैं. सभी की बहाली एक साल के लिए की गई है. सबका रोस्टर बनाकर काम लिया जाएगा. वहीं तीन माह के लिए चार मूर्छक, चार मेडिसिन एमडी, 24 जीएनएम व एनएम, 25 मल्टी टास्किंग वर्कर, 25 वार्ड ब्वाय, 10 डाटा ऑपरेटर व दस लैब टेक्नीशियन की बहाली होगी. इसके लिए सिविल सर्जन कार्यालय में आवेदन जमा किए जाएंगे. दो से तीन दिन के अंदर तीन माह वाली बहाली हो जाएगी.

जाप प्रमुख पप्पू यादव को किडनैपिंग के पुराने मामले में अरेस्ट करेगी बिहार पुलिस

जानकारी देते हुए सीएस ने बताया कि सरकार की ओर से स्नातक पीजी करने वाले को सात हजार, डिप्लोमा करने वाले को पांच हजार, एमबीबीएस व दंत चिकित्सक को चार हजार रुपये मानदेय प्रतिदिन दिया जाएगा. बीएससी नर्सिंग करने वाले को दो हजार, जीएनएम को 1500 व एएनएम को एक हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से मानदेय तय किया गया है. इसके साथ लैब टेक्नीशियन, वार्ड ब्वाय, डाटा एंट्री ऑपरेटर, मल्टी टास्किंग स्टाफ को सरकार की ओर से पहले से तय मानदेय के आधार पर काम लिया जाएगा. सीएस ने बताया कि कोरोना काल को देखते हुए ये बहाली हो रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें