बीआरए यूनिवर्सिटी को मानवाधिकार आयोग ​का नोटिस, मार्कशीट न मिलने से छात्र परेशान

Shubham Bajpai, Last updated: Mon, 13th Dec 2021, 7:22 PM IST
  • मुजफ्फरपुर के बीआरए यूनिवर्सिटी को मानवाधिकार आयोग ने नोटिस भेजा है,आयोग ने ये नोटिस एसआरकेपी कॉलेज चकिया की एक छात्रा की शिकायत पर भेजा. छात्रा ने समय पर मार्कशीट न मिलने की शिकायत आयोग में की थी. जिसके बाद यूनिवर्सिटी को नोटिस भेजा गया है. आयोग के नोटिस पर यूनिवर्सिटी की ओर से जवाब दे दिया गया है.
बीआरए यूनिवर्सिटी को मानवाधिकार आयोग ​का नोटिस, मार्कशीट न मिलने से छात्र परेशान (फोटो सभार सोशल मीडिया)

मुजफ्फरपुर. बिहार की बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर यूनिवर्सिटी को मानवाधिकार आयोग ने नोटिस भेजा है. ये नोटिस एक छात्रा की शिकायत पर आयोग ने यूनिवर्सिटी को भेजा. यूनिवर्सिटी से संबद्ध एसआरकेपी कॉलेज की एक छात्रा ने उसको समय पर मार्कशीट का आरोप लगाते हुए यूनिवर्सिटी की शिकायत आयोग में की थी. छात्रा के अनुसार, उसने 2016-19 बैच में पढ़ाई की. दो साल के बाद अभी तक विवि ने उसको मार्कशीट नहीं दी है. इससे पहले इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री जन शिकायत में भी की जा चुकी है.

यूनिवर्सिटी ने कहा कि दे चुके जवाब

इस मामले में यूनिवर्सिटी के विधि अधिकारी डॉ. मयंक कपिला ने बताया कि विवि की ओर से आयोग को जवाब दे दिया गया है.

बाप-बेटी का रिश्ता शर्मसार! पिता ने नाबालिग बेटी के साथ की घिनौनी हरकत

अभी तक विवि को मिल चुके हैं 8 नोटिस

विवि को मानवाधिकार आयोग की ओर से ये पहला नोटिस नहीं है. इससे पहले भी विवि को सिर्फ इस साल में 8 नोटिस मिल चुके हैं. इससे पहले विवि को संबद्ध कॉलेजों को मानदेय और अनुदाय नहीं मिलने को लेकर भी नोटिस भेजा जा चुका है.

6 महीने पहले किया आवेदन लेकिन अभी तक नहीं मिली

छात्रों का कहना है कि पिछले 6 महीने से पेंडिंग मार्कशीट, डिग्री के लिए विवि के परीक्षा विभाग में रोज आ रहे हैं लेकिन अभी तक मार्कशीट और डिग्री नहीं मिली. जबकि आवेदन किए आधा साल बीत गया.

SBI Jobs: 7026 पदों पर भर्ती का नौकरी नोटिफिकेशन, ऐसे करें आवेदन, डिटेल्स

सीनेट सदस्य ने कहा, विवि में अराजकता का माहौल

इस मामले में सीनेट सदस्य केशरी नंदन शर्मा ने कहा कि विवि में शैक्षणिक अराजकता का माहौल है. छात्र विवि के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन कोई उनकी नहीं सुन रहा है. जिसकी वजह से छात्र मानवाधिकार आयोग और मुख्यमंत्री के पास जा रहे हैं.

बता दें कि इस मामले की शिकायत सीएम नीतीश कुमार से भी की जा चुकी है. इसको लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से स्पष्टीकरण मांगा जा चुका है. पांच बार स्पष्टीकरण मांगने के बाद भी स्थिति में कोई सुधार नहीं है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें