मुजफ्फरपुर के बड़े कारोबारी के कई ठिकानों पर इनकम टैक्स का छापा, 5 घंटे चली रेड

Smart News Team, Last updated: Thu, 17th Sep 2020, 10:35 PM IST
मुजफ्फरपुर के एक बड़े कारोबारी और उनके पार्टनर के ठिकानों पर इनकम टैक्स ने रेड मारी. इनकम टैक्स ने पांच घंटे तक कारोबारी के कई ठिकानों पर जांच-पड़ताल की.
मुजफ्फरपुर में व्यापारी नंद कुमार साह के ठिकाने पर आयकर विभाग की रेड.

मुजफ्फरपुर. इनकम टैक्स की टीम ने गुरूवार को मुजफ्फरपुर के बड़े व्यापारी नंद कुमार साह के घर, दुकान, स्कूल और अन्य ठिकानों पर छापेमारी की. इसके अलावा व्यापारी के पार्टनर के घर पर भी रेड मारी. आयकर विभाग की टीम व्यापारी के आमदनी से जुड़े सभी स्रोतों को खंगाल रही है.

मुजफ्फरपुर में इनकम टैक्स के अधिकारियों ने व्यापारी के सरैयागंज स्थित आवास, दुकान, कोचिंग और सकूल पर छापेमारी की. इनकम टैक्स टीम के एक अधिकारी ने बताया कि नियमित कार्यवाही के तहत व्यवसायी के सभी ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है. व्यपारी के अलावा बालू घाट मोहल्ले में उनके साझेदार अनिल चौधरी के घर पर भी इनकम टैक्स के अधिकारियों ने छापा मारा. इनकम टैक्स की इस जांच से व्यापारियों में हड़कंप मचा हुआ है. 

मुजफ्फरपुर में बड़े व्यापारी नंदु साह के घर, दुकान, स्कूल पर आयकर विभाग की रेड

कारोबारी के घर के मुहाने पर तैनात जवान.

गुरूवार को इनकम टैक्स के दो दर्जन से अधिक अधिकारियों ने व्यापारी के पांच ठिकानों पर पांच घंटे तक जांच-पड़ताल की. पांच घंटे तक चली इस छापेमारी में अधिकारियों ने खरीद बिक्री, स्टॉक से जुडे कागजातों को खंगाला. इसके अलावा उन्होंने अपनी जांच में स्कूल और कोचिंग में छात्रों की संख्या और फीस के बारे में पड़ताल की. साथ में व्यापारी के पैतृक संपत्ति के बारे में जानकारी ली. आपको बता दें कि रॉय बहादुर टुनकी साह व बैथनाथ प्रसाद से नंदु साह प्रोपर्टी डीलिंग भी करते हैं. 

मुजफ्फरपुर में बिहार विधानसभा चुनाव 2020 से पहले कई थानेदारों का तबादला

छापेमारी के दौरान व्यापारी के सभी ठिकानों पर पुलिस के जवान तैनात रहे. स्कूल और कोचिंग में छापेमारी के दौरान आवाजाही पर रोक लगा दी गई थी. आपको बता दें कि छापेमारी से पहले इनकम टैक्स ने कारोबारी के ठिकानों पर रेकी कर ली थी. जिससे व्यापारी की आय के श्रोतों के बारे में आकलन कर लिया गया था. इस छापेमारी पर अभी तक इनकम टैक्स के किसी अधिकारी की ओर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें