मुजफ्फरपुर: सेना भर्ती में अभ्यार्थियों को 10 रुपए की स्टांप 100 में बेची जा रही

Smart News Team, Last updated: Thu, 4th Feb 2021, 12:17 PM IST
  • मुजफ्फरपुर निबंधन कार्यालय स्थित काउंटर से अभ्यर्थियों को स्टांप पेपर मिलने में परेशानी का सामना करना पड़ा है. पुरे दिन निबंधन कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं. इससे सबसे ज्यादा स्टांप वेंडरों को हो रहा है. वे 10 का स्टांप ड्यूटी 100 से अधिक दामों में अभ्यर्थियों से बेच रहें है.
भारतीय सेना भर्ती रैली में ड्यूटी स्टैंप बेचने वाले कर रहे अभ्यार्थियों से धोखाधड़ी.

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर में सेना भर्ती प्रक्रिया जारी है. भर्ती प्रक्रिया में अभ्यर्थियों को 10 रुपये का स्टाम्प पेपर पर अंडरटेकिंग देना होता है. लेकिन, मुजफ्फरपुर निबंधन कार्यालय स्थित काउंटर से अभ्यर्थियों को स्टाम्प पेपर मिलने में परेशानी का सामना करना पड़ा है. पुरे दिन निबंधन कार्यालय के चक्कर लगा रहे हैं. इससे सबसे ज्यादा स्टाम्प वेंडरों को हो रहा है. वे 10 का स्टांप ड्यूटी 100 से अधिक दामों में अभ्यर्थियों से बेच रहें है.

गौरतलब हो कि जिला अवर निबंधक राकेश कुमार सिंह ने बताया कि स्टाम्प की कोई कमी नहीं है. न ही स्टांप का किसी से अधिक मूल्य लिया जा रहा है. अगर ऐसी गड़बड़ी मिलेगी तो काउंटर पर बैठने वाले बाबू पर कार्रवाई करेंगे. उन्होंने कहा कि यह कांउटर दोपहर में डेढ़ बजे बंद हो जाता है. कलेक्शन के रुपये बैंक भेज दिये जाते हैं. इसके बाद अगले दिन ही स्टाम्प पेपर बेच सकते है.  

पहले दोस्त की पत्नी को प्रेमजाल में फंसाया फिर उसी की बच्ची के साथ किया गलत काम

यह परेशानी सेना बहाली में आये उन अभ्यर्थियों के साथ हो रही है, जो दोपहर बाद काउंटर पर पहुंच रहे हैं. इससे सिर्फ उनलोगों को लौटना पड़ रहा है जो दोपहर बाद पहूंच रहें हैं. उन्होंने अभ्यार्थियों कि सुविधा के लिए कांउटर के कर्मी को कहा गया है कि थोड़ा बिलंब से कैश क्लोज करें, ताकि अभ्यर्थियों को परेशानी नहीं हो व उन्हें स्टाम्प पेपर मिल जाए. 

BPSC ने निकाली आर्ट कल्चर ऑफिसर की 38 वैकेंसी, जानें कैसे होगा चयन

दूसरी ओर अभ्यर्थी राहुल रंजन यादव ने बताया कि वह दोपहर एक बजे अनुबंध कार्यलय के कांउटर पर पहुंचे. लेकिन, उन्हें स्टाम्प पेपर नहीं दिया गया. इसके बाद उन्होंने निबंधन कार्यालय स्थित एक वेंडर से स्टाम्प पेपर खरीदा. जिसके लिए उन्हें सौ रुपेय अधिक देने चुकाना पड़ा. मधुबन के रमेश पटेल ने बताया कि कांउटर के आसपास वेंडर मडराते रहते है. वे अधिक रुपेय लेकर स्टाम्प देते है. 

करोड़ों का वारिस, अमीर परिवार का इकलौता बेटा है इंडिगो मैनेजर रूपेश सिंह का हत्यारा रितुराज 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें