मुजफ्फरपुरः प्राइवेट अस्पताल की लापरवाही से बीमा कंपनी सर्वेयर की मौत, परिजनों का हंगामा

Smart News Team, Last updated: 02/10/2020 09:21 PM IST
  • मुजफ्फरपुर में बीमा कंपनी में काम करने वाले सर्वेयर की निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. परिजनों का आरोप है कि अस्पताल की लापरवाही के चलती मरीज की मौत हुई है.
मुजफ्फरपुर में प्राइवेट अस्पताल की लापारवाही के चलते एक मरीज की मौत हो गई.

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें निजी अस्पताल की लापरवाही के चलते एक व्यक्ति की मौत हो गई है. बीमा कंपनी में काम करने वाले सर्वेयर की निजी अस्पताल में इलाज के दौरान मौत हो गई. जिसके बाद मृतक के परिजनों अस्पताल में हंगामा मचाया. उनका आरोप है कि अस्पताल की लापारवाही के चलते मौत हुई है. मृतक के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है. 

ये मामला शहर के जुरन के एक निजी अस्पताल का है. यहा निजी कंपनी में काम करने वाले मिठानपुर निवासी 58 वर्षीय राकेश कुमार श्रीवास्तव की मौत हो गई. मृतक की भतीजी पिंकी सिन्हा ने कहा कि 17 सितंबर को उनके चाचा की तबियत बिगड़ी थी. जिसके बाद उनको इलाज के लिए प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया था. जांच के बाद उनसे कहा गया था कि सब कुछ ठीक है.

एटीएम फ्रॉड का हुआ खुलासा, मदद के बहाने लेते थे कार्ड और क्लोन करके लूट

22 सितंबर को राकेश श्रीवास्तव को हाॅर्ट अटैक आया. जिसके बाद उनको आनन-फानन में अस्पताल में भर्ती किया गया. अस्पताल को फिर भी पता नहीं चला कि मरीज को हाॅर्ट अटैक के सिंपटम हैं. उनको इलाज के नाम पर 10 दिन तक आइसीयू में रखा गया. जब उनके नाक से खून आने लगा तो अस्पताल ने जबरन उनको डिस्चार्ज कर दिया. 

मुजफ्फरपुर पुलिस ने CCTV की मदद से दो घंटे में चोर को पकड़ा, बाइक भी बरामद

अस्पताल ने परिजन से कहा कि अगर नाक से खून आए तो रूई लगा देना. घर पर अगले दिन ही उनकी तबियत फिर से खराब हो गई. जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया. थोड़ी ही देर में डाॅक्टर ने बताया कि उनकी मौत हो चुकी है. 

अक्टूबर में 6 के बदले 9 दिन बैंक बंद, छुट्टी तारीखों से पहले निपटा लें लेन-देन

जिसके बाद मृतक के परिजनों ने अस्पताल में हंगामा किया. परिजनों का आरोप है कि अस्पताल की लापरवाही के कारण मरीज की मौत हुई है. जब उन्होंने पटना रेफर करने ककी बात कही थी तो अस्पताल ने मना कर दिया था. अस्पताल प्रबंधन ने जबरदस्ती उनको डिस्चार्ज किया था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें