कृषि बिलों के विरोध में वामपथी संगठन 21 मार्च को करेंगे किसान महापंचायत

Smart News Team, Last updated: Sun, 21st Mar 2021, 11:41 AM IST
  • केंद्र सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानूनों का मुजफ्फरपुर में खुदीराम बोस स्मारक स्थल पर विरोध हो रहा है. वामपंथी संगठनों की ओर से इन काले कानूनों का विरोध करने के 21 मार्च को किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है. जिसमें बड़े किसान नेता पहुंचेंगे.
फाइल फोटो

मुजफ्फरपुर. कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन लगातार जारी है. मुजफ्फरपुर में वामपथी संगठनों की ओर से 21 मार्च को किसान महापंचायत लगाकर इन बिलों का विरोध किया जाएगा. गौर हो कि देश भर में किसानों की ओर से केंद्र द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानूनों और बिजली संशोधन बिला 2020 वापस कराने को लेकर और एमएसपी को कानूनी दर्जा देने की मांग को लेकर आंदोलन किया जा रहा है.

एआईकेकेएमएस के जिला सचिव काशीनाथ साहनी ने कहा कि किसानों की ओर से चार महीनों से रोजाना धरना प्रदर्शन किया जा रहा है. मुजफ्फरपुर के किसान खुदीराम बोस स्मारक स्थल पर तीनों काले कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि किसानों का आंदोलन तब तक जारी रहेगा. जब तक बिना शर्त इन काले कानूनों को वापिस नहीं लिया जाएगा.

बिहार वुमेंस लीग: RDPS एफसी मोतिहारी ने इंदिरा गांधी वुमेंस मुजफ्फरपुर को हराया

उन्होंने बताया कि इसी कड़ी में 21 मार्च को एमपीएस साइंस कॉलेज में किसान महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है. जिस समय पूरा देश कोरोना संकट से जूझ रहा था. उस समय केंद्र सरकार ने बहुमत के दम पर अध्यादेश पेश कर तीनों काले कृषि बिल पास कर दिए. सरकार इन कानूनों के जरिए कृषि का भी प्राइवेटाइजेशन करना चाहती है. देश भर में किसानों की ओर से कृषि कानूनों का विरोध किया जा रहा है. इसी वजह से जिले में हो रही किसान महापंचायत में देश भर से किसान नेता पहुंचेंगे और इन काले कानूनों के प्रति जागरूक करेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें