मुजफ्फरपुर नगर निगम में उपमेयर के बाद मेयर के खिलाफ भी अविश्वास प्रस्ताव पेश

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Jul 2021, 9:10 AM IST
  • मुजफ्फरपुर नगर निगम में सोमवार के दिन मेयर सुरेश कुमार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया. इससे पहले निगम के उपमेयर मानमर्दन शुक्ला के खिलाफ भी रविवार को अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया था. उपमेयर के प्रस्ताव के खिलाफ विचार के लिए 23 जुलाई को बैठक बुलाई गई है. 
मुजफ्फरपुर नगर निगम. (प्रतीकात्मक चित्र)

मुजफ्फरपुर : बीते तीन दिनों से मुजफ्फरपुर नगर निगम में मेयर और उप मेयर की कुर्सी के लिए गजब ही सियासी उठापटक हो रहा है. हालात यह हो चुके हैं कि 24 घंटे के दौरान उप मेयर मानमर्दन शुक्ला के बाद मेयर सुरेश कुमार के खिलाफ भी अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया गया है. नगर निगम में अविश्वास प्रस्ताव लाने की राजनीति वर्चस्व कायम करने की लड़ाई है. फिलहाल उप मेयर के अविश्वास प्रस्ताव पर विचार करने के लिए 23 जुलाई को बैठक बुलाई गई है. वही सोमवार को पेश मेयर के अविश्वास प्रस्ताव पर विचार करने के लिए कोई तारीख निर्धारित नहीं की गई है.

दरअसल मुजफ्फरपुर नगर निगम में पार्षदों के तीन खेमे बनते दिख रहे हैं. पहला खेमा राकेश कुमार पिंटू वाला जो मेयर सुरेश कुमार के विरोध में हमेशा से एक्टिव रहा है. साथ ही ये खेमा उपमेयर मानमर्दन शुक्ला के सपोर्ट वाले पार्षदों की सहायता लेने की कोशिश कर रहा है. वहीं मेयर सुरेश कुमार के पार्षदों का खेमा जो उपमेयर मान मर्दन शुक्ला को उनके पद से हटाना चाहता है. माना जा रहा है कि इसके लिए मेयर सुरेश कुमार ने 6 से अधिक पार्षदों को एक करने की कोशिश में जुट चुके है. वर्तमान में 48 वार्ड पार्षद की क्षमता वाले मुजफ्फरपुर नगर निगम में एक पक्ष को अपना बहुमत साबित करने के लिए 25 पार्षद को साथ लेना पड़ेगा.

मुजफ्फरपुर के सांसद ने दी लॉ-ऑर्डर मजबूत करने की सलाह, ‘2005 जैसा नहीं रहा हाल’

नगर निगम में हो रही राजनीति केवल कुर्सी का नहीं है. यहां मामला निगम के बजट और स्मार्ट सिटी जैसे प्रोजेक्ट का भी है. माना जा रहा है कि टैक्स वसूली को लेकर एजेंसियों का चयन, दुकान खाली करने के नोटिस जैसे विषयों पर निगम में पार्षदों की असहमति ने भी अविश्वास प्रस्ताव को कारण बनी. फिलहाल मुजफ्फरपुर नगर निगम की राजनीति अभी स्पष्ट नहीं है. फिर भी आने वाले 7 दिनों में कुछ स्थिति साफ होने लगेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें