मुजफ्फरपुर में 7 नए नगर पंचायत प्रस्ताव, 3 नगर पंचायत बनेंगे नगर परिषद

Smart News Team, Last updated: Mon, 21st Dec 2020, 11:27 PM IST
  • मुजफ्फरपुर जिले में सात नए नगर पंचायत के गठन का प्रस्ताव नगर विकास एंव आवास विभाग की मांग पर भेजा गया है. इसके साथ ही तीन पुराने नगर पंचायतों को नगर परिषद में बदलने का प्रस्ताव भी दिया गया है.
नगर विकास एवं आवास विभाग की मांग पर जिले में सात नए नगर पंचायत के गठन का प्रस्ताव भेजा गया है

नगर विकास एवं आवास विभाग की मांग पर जिले में सात नए नगर पंचायत के गठन का प्रस्ताव भेजा गया है. इसके अलावा तीन पुराने नगर पंचायतों को नगर परिषद में उत्क्रमित करने का भी प्रस्ताव विभाग को दिया गया है. पूर्व में भेजे गए प्रस्ताव में विभाग के निर्देश के आलोक में संशोधन किया गया है, उम्मीद है कि नए साल में जिला प्रशासन के इस प्रस्ताव को विभाग की मंजूरी मिल जाएगी.

विभागीय निर्देश पर पंचायती राज कार्यालय ने जिले में सात नए नगर पंचायत के गठन का प्रस्ताव भेजा है. यह प्रस्ताव जिला प्रशासन की अनुशंसा के साथ नगर विकास विभाग को भेजा गया। जिन पंचायतों को नगर पंचायत बनाने का प्रस्ताव भेजा गया है, उनमें बरूराज, मुरौल, मीनापुर, सकरा, तुर्की, सुस्ता माधोपुर व सरैया पंचायत के नाम शामिल हैं. पंचायती राज कार्यालय ने इस प्रस्ताव के साथ भावी नगर पंचायत की चौहद्दी व नक्शा भी विभाग को उपलब्ध कराया है.

इसके अलावा जिले के तीन वर्तमान नगर पंचायतों को नगर परिषद बनाने का प्रस्ताव भी भेजा गया है. नगर परिषद् में उत्क्रमित करने के लिए इन नगर पंचायतों के क्षेत्रफल का भी विस्तार किया गया है. इन तीन वर्तमान नगर पंचायतों में मोतीपुर, कांटी व साहेबगंज नगर पंचायत शामिल हैं. उल्लेखनीय है कि नगर विकास विभाग को पूर्व में भी नगर पंचायतों के गठन का प्रस्ताव भेजा गया था.

तेजस्वी बोले- बिहार में मध्यावधि चुनाव संभव, जनवरी में RJD की धन्यवाद यात्रा

इस बार विभाग ने पूर्व के प्रस्तावों की समीक्षा व जिलास्तरीय समिति के अनुमोदान के साथ प्रस्ताव की मांग की थी. सामान्य प्रशाखा के प्रभारी वरीय उपसमाहर्ता प्रीति सिंह ने बताया कि नगर विकास विभाग की निर्धारित समय सीमा रविवार थी. रविवार को ही जिले से नए नगर पंचायत व वर्तमान नगर पंचायतों के उत्क्रमण का प्रस्ताव भेज दिया गया है.

कृषि कानून के खिलाफ जाप प्रमुख पप्पू यादव का धरना, बिल के विरोध में किया यज्ञ

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें