मुजफ्फरपुर: कम्युनिस्ट नेता अशोक कुमार सिंह को लाल सलाम के साथ अंतिम विदाई

Smart News Team, Last updated: 02/09/2020 08:28 PM IST
  • ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के राज्य सचिव अशोक कुमार सिंह की मंगलवार को एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी. बुधवार को पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अपने साथी को अंतिम विदाई दी.
मुजफ्फरपुर: कम्युनिस्ट नेता अशोक कुमार सिंह को लाल सलाम के साथ अंतिम विदाई

मुजफ्फरपुर. बुधवार को ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन (एसयूसीआई सी) के राज्य सचिव अशोक कुमार सिंह को लाल सलाम के नारों के साथ अंतिम विदाई दी गई. अशोक कुमार सिंह की शव यात्रा पार्टी के मोतीझील स्थित कार्यालय से निकली. अंतिम यात्रा से पहले पूर्व नेताओं और कार्यकर्ताओं ने उनके शव पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की. इस मौके पर पार्टी के तमाम नेता और कार्यकर्ती मौजूद रहे. 

मुजफ्फरपुर से किडनैप बच्चा शिवहर से बरामद, 1 करोड़ मांगी थी फिरौती, 10 गिरफ्तार

एसयूसीआई (सी) के राज्य सचिव अरुण कुमार सिंह ने अशोक कुमार सिंह को याद करते हुए कहा कि वह छात्र जीवन से ही राजनीति में सक्रिय थे. अपने समय में वह नक्सल आंदोलन से प्रभावित थे. इसके बाद 1972 में जेल में उनकी एसयूसीआई (सी) के पूर्व राज्य सचिव शिवशंकर से मुलाकात हुई. इस मुलाकात के बाद से ही वह सर्वहारा के महान नेता शिवदास घोष के विचार से प्रभावित होकर पार्टी से जुड़ गए. वह शोषितों और पीड़ितों खासकर गरीब-किसान और खेतिहर मजदूरों को शोषण से मुक्ति की राह पर लाने के लिए और उन्हें संगठित करने में उन्होंने अपनी पूरी जिंदगी लगा दी. 

मुजफ्फरपुर: अस्पताल पर बिना इलाज के 56 हजार का बिल थमाने का आरोप, हंगामा

अरुण कुमार सिंह ने उन्हें याद करते हुए आगे कहा कि साल 2012 में हाजीपुर में ऑल इंडिया किसान खेत मजदूर संगठन के राज्य सम्मेलन में उन्हें सचिव चुना गया थी. तभी से वह पार्टी के सचिव रहे. उन्होंने अपने परिवार को भी अपने साथ पूंजीवाद विरोधी समाजवादी क्रांति में शामिल किया. वह अपने पीछे पत्नी मंजू सिन्हा, बेटे प्रवीण कुमार, प्रशांत कुमार, बहु प्रियंका व सोनी समेत भरा पुरा परिवार छोड़ गए है. 

चौकी प्रभारी ने ट्रेनी महिला दारोगा को थाने से धक्का मारकर भगाया, अब जांच शुरू

बता दें कि अशोक कुमार सिंह (71) की सड़क हादसे में मंगलवार को मौत हो गई थी. वह अपने घर पारू थाना के बड़ा दाऊद गांव से स्कूटी से मुजफ्फरपुर जा रहे थे. इसी दौरान सरैया मोती चौक एनएच 722 पर एक ट्रैक्टर की चपेट में आने के वे गंभीर रूप से घायल हो गए. इलाज़ के लिए उन्हें मुजफ्फरपुर ले जाया गया लेकिन अस्पताल में इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें