मुजफ्फरपुर: व्यवसायी की हत्या में 13 लोगों पर केस दर्ज, गांव में तनाव का माहौल

Smart News Team, Last updated: 11/09/2020 08:50 AM IST
  • मुजफ्फरपुर के निजामत गांव के व्यवसायी मंटू तिवारी की पीट-पीट कर हत्या किए जाने के मामले में गुरुवार को FIR दर्ज की गई. पत्नी ने 13 लोगों पर नामजद मुकदमा दर्ज कराया. हत्या के बाद से ही गांव में दोनो पक्षों के बीच तनाव का माहौल है. फिलहाल गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है.
व्यवसायी मंटू तिवारी की पीट-पीट कर हत्या किए जाने के मामले में 13 लोगों के खिलाफ नामजद FIR दर्ज की गई.

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर के बंगरा निजामत गांव के व्यवसायी मंटू तिवारी की पीट-पीट कर हत्या किए जाने के दूसरे दिन यानी गुरुवार को FIR दर्ज की गई. मृतक मंटू तिवारी की पत्नी सुजाता कुमारी ने इस मामले में FIR दर्ज कराई है. पत्नी द्वारा दर्ज कराए गए FIR में शशिभूषण सिंह, मनीष सिंह, देवेन्द्र सिंह, नीतेश सिंह, ऋतुराज सिंह, रीमा देवी, मनीषा कुमारी, निशा कुमारी, संगीता देवी,नेहा कुमारी, विमला देवी, बंगरा निजामत के रमाकांत तिवारी, रामपुर असली के भूप नारायण सिंह समेत चार अज्ञात लोगों को आरोपित किया है.

मुजफ्फरपुर: प्रेमी संग भागी थी छात्रा, अपहरण-डकैती की झूठी कहानी की पोल खुली

पुलिस को दिए बयान में बताया गया कि दो दिन पहले देवेन्द्र सिंह का पोता नीतेश कुमार और रमाकांत तिवारी ने अपने घर खाना खिलाने के लिए आमंत्रित किया था. इसके लिए उनके पति ढाई बजे बुधवार को घर से निकले. इसके बाद ही तीन बजे शोर हुआ कि मंटू तिवारी को मार दिया है. लोगों का शोर सुनकर दौड़ी हुई गयी तो देखा देवेन्द्र सिंह के घर के बगल में पति की लाश पड़ी थी. पत्नी ने आरोप लगाया कि उन लोगों ने साजिश के तहत पति को घर पर बुलाया और हत्या करने के बाद मोबाइल गायब कर दिया. इस मामले में पुलिस ने देवेन्द्र सिंह समेत दो लोगों को गिरफ्तार कर सरैया थाना में रखा है.

भांजे ने किया रिश्तों को शर्मसार! मामी से संबंध बना वीडियो वायरल करने की दी धमकी

गांव में व्यवसायी मंटू तिवारी की हत्या के बाद से दोनों पक्षों में तनाव है. बढ़ते तनाव को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने पकड़ी असली गांव में आरोपित देवेन्द्र सिंह के घर की सुरक्षा के लिए दारोगा शोभित यादव के नेतृत्व में पुलिस बल तैनात कर दिया है. इस मामले की कमान खुद एसडीपीओ सरैया राजेश कुमार शर्मा ने अपने हाथ में ले ली है. घटना के बाद दोनों पक्षों के लोग एक दूसरे की गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं.

मुजफ्फरपुरः डीडीए के निदेशक सतीश कुमार राय का इस्तीफा, तीन दिन से अनशन पर छात्र

वहीं दूसरी तरफ घटना को लेकर परिजनों और समर्थकों में आक्रोश है और दोनों तरफ से तनातनी है. मृतक के परिवार के सदस्यों का रो रोकर बुरा हाल है. बताया जा रहा है कि मृतक मंटू तिवारी और देवेन्द्र सिंह की छवि दबंग थी. एक महीने पहले ही दोनों के बीच खेत में मिट्टी काटने को लेकर विवाद हुआ था और जमकर मारपीट भी हुई थी. इस मामले में भी दोनों तरफ से एफआईआर हुई थी. मंटू दो बार पैक्स का चुनाव भी लड़ा था और अपने बढ़ते राजनीतिक कद और पहुंच के कारण कई लोगों की आंख की किरकिरी भी बन गया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें