मुजफ्फरपुर: ऑटो चालक के लिए बाढ़ बनी काल, डूबकर हुई मौत 2 घंटे बाद मिला शव

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Jul 2021, 2:07 PM IST
  • मुजफ्फरपुर शहर में सोमवार के दिन स्थित चंदवारा घाट के पास 25 साल के ऑटो चालक का पैर फिसलने से बाढ़ के पानी में गिर गया. तैरने की कला नहीं आने की वजह से चालक की डूबने से मौत हो गई. मौके पर मौजूद लोगों ने उसके लाश को 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद खोज कर बाहर निकाला.
बाढ़ में डूबने से मौत. (प्रतीकात्मक चित्र)

मुजफ्फरपुर : बिहार में हर साल बाढ़ के पानी में डूबने से कई लोगों की मौत होती है. इस साल भी मानसून में आए बाढ़के वजह से मुजफ्फरपुर शहर के छिटभगवतीपुर इलाके में स्थित चंदवारा घाट के पास एक ऑटो चालक की डूबने से मौत हो गई है. मृतक ऑटो चालक का नाम टिंकू है. बताया जा रहा है कि टिंकू का पैर फिसलने की वजह से पानी में गिर गया था. जिस कारण उसकी डूबने से मौत हो गई. गांव के लोगों ने मृतक टिंकू के शव को नदी से बाहर निकाला. बाद में घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने टिंकू को शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया.

25 साल का मृतक टिंकू पेशे से एक ऑटो चालक था. इसके अलावा वह मेहनत मजदूरी करके भी अपने परिवार का भरण पोषण करता था.ऑटो ड्राइवर के मरने से उसके दो बच्चों के सर के ऊपर से पिता का साया भी उठ गया. उसकी मौत के बाद मृतक परिजनों ने बताया कि टिंकू सोमवार की सुबह सोच के लिए बांध के तरफ गया था. वापसी में लौटते समय उसका पैर फिसला और बाढ़ के पानी में जा गिरा.

बाढ़ का असर: बिहार से UP, दिल्ली, मुंबई जाने वाली इन ट्रेनों का रूट चेंज, कई ट्रेन कैंसिल

सोडा गोदाम चौक का रहने वाला टिंकू जब बाढ़ के पानी में गिरा तो लोग खुद बचाने के बजाय एसडीआरएफ की टीम का इंतजार कर रहे थे. लोगों ने जब देखा कि एसडीआरएफ की टीम दुर्घटना स्थल पर पहुंचने में देरी होगी. तब जाकर गांव वाले पानी में कूदे. लेकिन तब तक ऑटो ड्राइवर की डूबकर मौत हो गई थी. उसके मौत के बाद गांव वालों ने ही उसके शव को बाहर निकाला. बाढ़ का पानी इतना खतरनाक था कि उसके शव को ढूंढने में करीब 2 घंटे लग गए थे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें