मुजफ्फपुर के चतुर्भुज गांव में दर्दनाक हादसा, नहर में डूबने से 3 बच्चियों की मौत

Smart News Team, Last updated: Fri, 9th Jul 2021, 10:37 AM IST
  • मुजफ्फरपुर के अहियापुर क्षेत्र में गुरुवार को नहर में डूबने से तीन बच्चियों की मौत हो गई. तीनों बच्च्यिों पशुओं के लिए चारा लेने गई थी. पुलिस शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा भरने के बाद शवों को पोस्टमार्डम के लिए भेज दिया. बच्चियों के पिता पंजाब में मजदूरी करते है. हादसे के समय वह गांव में नहीं थे.
चतुर्भुज गांवो में नहर में डूबने से बच्चियों की मौत पर विलाप करते परिजन और ग्रामीण. 

मुजफ्फरपुर: मुजफ्फरपुर के अहियापुर क्षेत्र में गुरुवार को एक दर्दनाक हादसा हो गया. क्षेत्र के सिवराहां चतुर्भुज गांवो की नहर में डूबने से तीन बच्चियों की मौत हो गई. तीनों बच्च्यिां संगी बहने थी. बच्च्यिों की मौत से गांव कोहराम मच गया. जानकारी के अनुसार तीनों बच्चियां पशुओं को लिए चारा लेने गई थी. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में ले लिया. पंचनामा भरने के बाद पुलिस ने शवों को पोस्टमार्डम के लिए भेज दिया. बच्चियों की मौत से गमगीन गांव के किसी भी परिवार में चूल्हा नहीं जला.

चतुर्भुज गांव में गुरुवार की दोपहर को जयप्रकाश नारायण की बेटियां जानवरों के लिए चारा लेने गई थी. दोपहर दो बजे चारा काटते समय उनकी बड़ी बेटी मधु नहर में गिर गई, मधु किसी तरह प्रयास करने के बाद नहर से बाहर निकल आई, लेकिन उसकी तीन बहने नदी में गिर गई. शोर मचाने में गांवों के साथ परिजन भी मौके पर पहुंच गए. लोगों ने तीनों बच्चियों को नहर से निकला, लेकिन तभ तक उनकी मौत हो गई. सूचना के बाद मौके पर पहुची पुलिस ने पंचनामा भरके शवों को पोस्टमार्डम के लिए भेज दिया. पिता जयप्रकाश पंजाब में मजदूरी का कार्य करते है. हादसे के समय वह गांव में नहीं थे.

मुजफ्फरपुर: बाइक सवार इंटर के छात्र को बदमाशों ने मारी गोली, SKMCH में भर्ती

हादसे के बाद पूरा गांव बच्चियों की मौत से गमगीन हो गया. मौके पर पहुंचे सीओ ने बच्चियों की मां रीना देवी को चार-चार लाख रुपये के चेक मुआवजे के रुप में दिये. पोस्टमार्डम के बाद परिवार के अन्य लोगों ने बच्चियों का अंतिम संस्कार किया. पंचायत समिति सदस्य गुड्डू यादव व पूर्व सांसद पप्पू यादव ने जिला प्रशासन से इलाके को बाढ़ प्रभावित करने की मांग की है.

बेटियों को आखरी बार नहीं देख पाए पिता

जय प्रसाद यादव पंजाब में मजदूरी का कार्य करते है. हादसे के समय पिता गांव में नहीं थे. जय प्रसाद के रिश्तेदारों ने उन्हें बच्चियों के अंतिम दर्शन के लिए वीडियो कॉल किया था. जिसके बाद परिजनों ने बच्यियों का अंतिम सस्कार कर दिया. बच्चियों के मौत के बाद पिता का रो-रोकर बुरा हाल हो गया है. वहीं उनकी पत्नी को गांव और परिवार की महिला सभालने में लगी है. गमगीन हाल में गांव में किसी भी परिवार के घर में चूल्हा नहीं लगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें