कोरोना काल में आर्थिक तंगी से परेशान दंपती ने फांसी लगाकर दी जान, तीन मासूम अनाथ

Smart News Team, Last updated: Thu, 29th Oct 2020, 11:32 AM IST
  • मुजफ्फरपुर के सरैया थाना क्षेत्र के चौबे अम्बारा गांव में एक दंपती ने कोरोना काल में उपजीआर्थिक तंगी से परेशान होकर फांसी लगाकर जान दे दी. पुलिस को घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.
आर्थिक तंगी से परेशान दंपती ने फांसी लगाकर दी जान.

मुजफ्फरपुर. मुजफ्फरपुर के सरैया थाना क्षेत्र के चौबे अम्बारा गांव में एक दंपती ने आर्थिक तंगी के चलते मंगलवार को फांसी लगाकर जान दे दी. कोरोना के कारण लॉकडाउन के कारण दंपती लोन की किस्त नहीं जमा कर पा रहे थे. बुधवार को सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को जब्त करके पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल में भेज दिया है.

पुलिस ने मृतक की पहचान राजेश महतो और उसकी पत्नी ममता देवी के रूप में की है. गांव के लोगों ने बताया कि राजेश महतो को लॉकडाउन में काम नहीं मिलने से उसकी आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई थी. राजेश महतो किराए पर ऑटो लेकर चलाते थे, उसी से वह अपने परिवार का भरण- पोषण करते थे.

CSP संचालक पर जानलेवा हमला, महीनों पहले लाखों की लूट में शामिल था आरोपी

राजेश की पत्नी एक निजी बैंक समेत तीन स्वयं सहायता समूह से कर्ज ली थी. इसमें दो के हफ्ते में और एक का 15 दिन पर किस्त में जमा करना पड़ता था लेकिन लॉकडाउन के कारण आर्थिक स्थिति बिगड़ती चली गई. लोन की राशि के लिए बैंक से लगातार दवाब बनता जा रहा था. पैसे की अभाव में किस्त जमा नहीं हो पा रही थीं. जिस वजह से दंपती तनाव में रहने लगे थे. दंपती के तीन छोटे-छोटे बच्चे हैं. अब बच्चे अनाथ हो गए.

मुजफ्फरपुर में ग्रामीणों ने बनाया मतदान कर्मियों को बंधक, लगाया पक्षपात का आरोप

थानाअध्यक्ष अजय कुमार पासवान ने बताया कि प्रारंभिक जांच में आर्थिक तंगी की बात सामने आई है. हालांकि, घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है.  पुलिस ने बताया कि फिलहाल परिजनों की तरफ से कोई तहरीर नहीं दी गई है. परिजनों की ओर से आवेदन पर मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें