मुजफ्फरपुर क्रिकेट एसोसिएशन की पहल, जल्द ही टर्फ विकेट पर होगा क्रिकेट

Smart News Team, Last updated: 09/02/2021 09:25 PM IST
  • बीसीसीआई का घरेलू टूर्नामेंट टर्फ विकेट पर खेला जाता है. टर्फ पर बैटिंग करना मुश्किल माना जाता है. टूर्नामेंट के दौरान यहां के क्रिकेटर ज्यादा देर टिक नहीं पाते हैं। लिहाजा, शहर में एक अलग क्रिकेट मैदान की जरूरत महसूस की जा रही है. इसके लिए पहल शुरू कर दी गई है.
एलएस कॉलेज खेल मैदान पर मैट पर मैच खेलते क्रिकेटर.

मुजफ्फरपुर- जिला क्रिकेट एसोसिएशन ने शहर में क्रिकेट के लिए टर्फ विकेट की कयावद शुरू कर दी है. इसके तहत एलएस कॉलेज खेल मैदान को क्रिकेट मैदान के रूप में विकसित करने की योजना बन रही है. एलएस कॉलेज के प्राचार्य डॉ. ओपी राय की ओर से इसकी हरी झंडी मिल चुकी है. प्राचार्य ने बताया कि जल्द ही एलएस कॉलेज प्रबंध कमेटी की बैठक में एमओयू के तहत मैदान को बीसीए को देने का प्रस्ताव पास करा लिया जाएगा.

एमडीसीए के सचिव उदय शंकर शर्मा ने टर्फ निर्माण के लिए बीसीए अध्यक्ष राकेश तिवारी से वित्तीय सहायता की मांग की है. बताते चलें कि बीते दिसंबर में एलएस कॉलेज मैदान पर सैयद मुश्ताक अली टूर्नामेंट सह सेलेक्शल ट्रॉयल के दौरान बीसीए अध्यक्ष ने इस मैदान को क्रिकेट मैदान के रूप में विकसित करने पर जोर दिया था. शहर में बेहतर टर्फ विकेट व क्रिकेट खेल मैदान का अभाव है. यहां के क्रिकेटर आज भी मैट पर प्रैक्टिस व टूर्नामेंट खेलते हैं.

किसान मेले में किसानों को दी जा रही खेती के नवीनतम प्रभेद और तकनीक की जानकारी

आपको बताते चलें कि बीसीसीआई की घरेलू टूर्नामेंट टर्फ विकेट पर खेला जाता है. टर्फ पर बैटिंग करना मुश्किल माना जाता है. टूर्नामेंट के दौरान यहां के क्रिकेटर ज्यादा देर टिक नहीं पाते हैं। लिहाजा, शहर में एक अलग क्रिकेट मैदान की जरूरत महसूस की जा रही है. इसके लिए पहल शुरू कर दी गई है. शहर में कुल 8 खेल मैदान है.

राजदेव हत्याकांड: कोर्ट में नहीं पेश हो सके शहाबुद्दीन व लड्डन, अगली पेशी 18 को

मुजफ्फरपुर: छात्रा से रेप के बाद मारपीट, आरोपित रिश्तेदार पर केस दर्ज

बिहार में नीतीश कैबिनेट का हुआ विस्तार, भाजपा से 9 और जदयू से 8 नेता बने मंत्री

नीतीश के नए मंत्रियों को मिले मंत्रालय, किसे मिला कौन-सा विभाग, देखें पूरी लिस्ट

मुजफ्फरपुर सर्राफा बाजार में सोना 550 व चांदी 1960 रुपए चमकी

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें