मुजफ्फरपुर DM के सख्त आदेश, भूमि विवादों के मामलों में रखी जाए निगरानी

Smart News Team, Last updated: Sat, 20th Feb 2021, 9:34 AM IST
  • डीएम जनता दरबार में फरियादी से संबंधित थाने व सीओ को कार्रवाई के लिए भेज गए भूमि विवादों के मामलों की निगरानी रखी जाएगी. कार्रवाई या प्रोग्रेस रिपोर्ट से डीएम को अवगत कराया जाएगा. ये निर्देश डीएम प्रणव कुमार ने अपर समाहर्ता राजेश कुमार को दिया है.
मुजफ्फरपुर DM के सख्त आदेश, भूमि विवादों के मामलों में रखी जाए निगरानी

मुजफ्फरपुर: डीएम जनता दरबार में लगाई गई फरियाद को लेकर अब फरियादियों को चिंता करने की जरूरत नहीं बल्कि अब संबंधित विभाग को चिंता करने की जरूरत है. क्योंकि अब डीएम जनता दरबार में फरियादी से संबंधित थाने व सीओ को कार्रवाई के लिए भेज गए भूमि विवादों के मामलों की निगरानी रखी जाएगी. 

कार्रवाई या प्रोग्रेस रिपोर्ट से डीएम को अवगत कराया जाएगा. ये निर्देश डीएम प्रणव कुमार ने अपर समाहर्ता राजेश कुमार को दिया है. शुक्रवार डीएम जनता दरबार में बड़ी संख्या में भूमि विवाद के मामले आए थे. जिसमें कई फरियादियों ने ये भी कहा कि ये पहली बार नहीं है जब हम शिकायत कर रहें हैं.

मुजफ्फरपुर में महिला अपने 3 बच्चों के साथ फरार, थोड़ी देर बाद उसकी बहन भी लापता

इस पर डीएम ने आदेश दिया कि सभी शिकायतों का एकबार में निपटारा हो और प्रोग्रेस या करवाई रिपोर्ट कार्यालय में जमा कराया जाए. डीएम जनता दरबार में भूमि विवाद, वृद्धावस्था पेंशन, पीएमजीपी लोन, आयुष्मान कार्ड अनुग्रह अनुदान व बिजली बिल से संबंधित मामले भी फरियादियों ने रखे. डीएम ने फरियादियों की शिकायत सुनने के बाद संबंधित अधिकारियों को आवेदन भेज दिया और कार्रवाई कर रिपोर्ट कार्यालय में जमा कराने का निर्देश दिया.

CM नीतीश कुमार ने कहा- अप्रैल,मई से शुरु कर दिया जायेगा जानता दरबार

जनता दरबार में मोतीपुर, हथौड़ी, मुशहरी, अहियापुर, मीनापुर, औराई व सकरा सहित अन्य प्रखंडों के फरियादियों ने अपनी समस्याएं रखीं. डीएम ने अधिकारियों से कहा कि जनता दरबार में आने वाली समस्या पर तुरन्त कार्रवाई करें और पीड़ित को जल्द से जल्द न्याय दिलाएं. डीएम जनता दरबार से निर्देशित मामलों में ढील बरतने वाले अधिकारियों को कार्रवाई की चेतावनी भी दी. उन्होंने ने कहा कि ऐसे बहुत सारे मामले प्रकाश में आए हैं जिनमें पूर्व में भी कार्रवाई का आदेश हुआ है, फिर भी संबंधित अधिकारी ने कोई कार्रवाई नहीं की.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें