सांसद-एमएलसी के नाम पर मुजफ्फरपुर में 2 हज़ार सीमेंट की बोरी का गबन

Smart News Team, Last updated: 29/11/2020 12:59 AM IST
  • बिहार राज्य के मुजफ्फरपुर के कारोबारियों ने हज़ारों रुपयों की चपत लगा दी. उनसे एमएलसी और सांसद बन कर की थी बात जिसके कारण वे जाल में फंस गए.
गोदाम में रखी सीमेंट की बोरियां

मुजफ्फरपुर: शहर के दो दुकानदारों को सांसद और एमएलसी के नाम पर दो हजार सीमेंट के बोरे गबन करने पर हिरासत में पुलिस ने शुक्रवार को हिरासत में ले लिया था. फिर, शनिवार को दोनों से पूछताछ के बाद कोर्ट में पेश कर न्यायिक हिरासत में जेल भी भेजा. दोनों कारोबारी गौतम कुमार और संतोष कुमार को बेला थाने की पुलिस ने पुराना बाजार से पकड़ा था. वहीं, थानेदार धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि इस गिरोह के सरगना मो. परवेज छापेमारी की भनक लगते ही फरार हो गया.

आरोपियों की धोखाधड़ी से परेशान होकर एक सितंबर को सीतामढ़ी जिले के परिहार चौक निवासी सीमेंट और छड़ कारोबारी इंद्रकांत झा ने बेला थाने में एफआइआर दर्ज कराई थी. जिसमें ये बताया गया था कि उन्हें सांसद और एमएलसी के नाम से 24 नवंबर को फोन आया था. जिसके बाद वे लोग घबरा गए थे. जिसके बाद दोनों आरोपी दुकानदाररों ने उनके नाम पर कारोबारियों से जालसाजी की थी. 

दावत में डांस को लेकर भिड़े रिश्तेदार, साले ने जीजा के पेट में घोंपी कांच की बोतल

इस चोरी के तहत आरोपियों ने 1500 बोरा बिरला सम्राट सिमेंट और पांच सौ बोरी जेपी सीमेंट उनके गोदाम से चोरी कर लिया था. जिन्हें नारायणपुर बेला स्थित कंपनी के गोदाम से उठाकर अलग-अलग खुदरा दुकानदारों को पहुंचा दिए थे. 

बिहार असिस्टेंट प्रोफेसर भर्ती में 36000 आवेदन, कैंडिडेट दूसरे राज्यों के ज्यादा

तय समय के अंदर जब उसका पेमेंट नहीं पहुंचा तो उनकी छानबीन शुरू की तो कारोबारियों को पता चला कि उन्हें चूना लग गया. बता दे कि बेला थाने के तत्कालीन थानेदार रमेश मिश्रा ने घटना के बाद पुरानी बाजार में छापेमारी करके 300 बोरा के करीब में सीमेंट बरामद की थी.

बिहार मेडिकल कॉलेजों में दाखिले को काउंसलिंग 1 दिसंबर से शुरू, फुल डिटेल्स

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें