मुजफ्फरपुर: रैंकिंग के दिन नजदीक आए तो नगर निगम स्वच्छता की याद आई

Smart News Team, Last updated: 09/12/2020 01:03 PM IST
  • स्वच्छता रैंकिंग की वोटिंग चले निगम फिर से भरेगा लाखों रुपए सड़कों पर कूड़ा डंपिंग से पसरी रहती है गंदगी रह चलना भी मुश्किल, बीते साल स्वच्छता रैंकिंग में मुजफ्फरपुर शहर देश और राज्य में फिसड्डी रहा इस बार नगर निगम अपनी रैंकिंग सुधारने का दावा कर रहा है.
मुजफ्फरपुर: रैंकिंग के दिन नजदीक आए तो नगर निगम स्वच्छता की याद आई

मुजफ्फरपुर: रैंकिंग के दिन नजदीक आने पर नगर निगम की कुंभकर्णी निद्रा टूटी और शहर की स्वच्छता की याद आई. अब जागरूकता अभियान और प्रचार प्रसार के नाम पर लाखों रुपए पानी की तरह बहाने की तैयारी है. इसके लिए पटना की एक एजेंसी के साथ एग्रीमेंट की तैयारी चल रही है. एक-दो दिन में इस पर मुहर लग सकती है. बीते साल स्वच्छता रैंकिंग में मुजफ्फरपुर शहर देश और राज्य में फिसड्डी रहा इस बार नगर निगम अपनी रैंकिंग सुधारने का दावा कर रहा है. लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि शहर की हालत अभी नरकीय बनी हुई है. सड़कों पर कूड़ा डंपिंग से गंदगी पसरी रहती है कूड़ेदान गायब हो चुके हैं. दुर्गंध से जरा चलना भी मुश्किल हो जाता है. इधर शहर में सार्वजनिक शौचालय की व्यवस्था भी नदारद है शहर अभी खुले में शौच से मुक्त नहीं हो सका है. जगह-जगह लगाए गए चलंत शौचालय की हालत भी महज एक साथ में बिगड़ चुकी है शौचालय में ना तो नल है और ना ही पानी, नालियां बजबजाई रहती हैं. लोग सड़क की ही डंपिंग यार्ड मान लेते हैं.

एजेंसी बताएगी कि वोटिंग कैसे करें.

निगम अधिकारियों के मुताबिक चयनित एजेंसी स्वच्छता सर्वेक्षण की जागरूकता के लिए प्रचार प्रसार के साथ शहर वासियों को सिटीजनफीडबैक और वोटिंग के लिए प्रोत्साहित करेगी. एजेंसी बताएगी कैसे अपनी राय स्वच्छता पर दें और वोटिंग करें इसके लिए जगह-जगह कैंप की जाएगी. इससे शहर को टॉप रैंकिंग में लाने में मदद मिलेगी ऑनलाइन वोटिंग से रैंकिंग के लिए अंक मिलते हैं. शहर में गंदगी और परेशानी है तो शहरवासी ऑनलाइन शिकायत कैसे करें इससे भी एजेंसी अवगत कराएगी।

नीतीश का बड़ा डिजिटल स्ट्राइक, ऑनलाइन डिटेल नहीं देने पर 1462 ठेकेदार सस्पेंड

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें