मातृत्व लाभ बिचौलिया घोटाले में लेखपाल पर केस दर्ज, फर्जी तरीके से पैसे हड़पे

Smart News Team, Last updated: 21/08/2020 07:52 PM IST
  • मुजफ्फरपुर के मुशहरी में 65 साल की एक महिला के नाम पर 18 महीने में 8 बार बच्चे पैदा करने का मामला सामने आया है इस मामले में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना का पैसा गबन किया गया. 
मुजफ्फरपुर में गर्ववती औरतों की मदद के लिए चल रही मातृत्व लाभ योजना का पैसा फर्जी तरीके से हड़पने के मामले में मुशहरी लेखपाल पर एफआईआर दर्ज की गई है. 

मुजफ्फरपुर. बिहार के मुजफ्फरपुर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत राष्ट्रीय मातृत्व लाभ योजना में मिलने वाले पैसे का बिचौलियों ने मिलकर घोटाला किया है. इस मामले में शुक्रवार को मुशहरी प्राइमरी हेल्थ सेंटर (पीएचसी) के लेखपाल पर घोटाले का केस दर्ज किया गया है. पीएचसी के प्रखंड लेखपाल अवधेश कुमार पर रुपयों के गबन का आरोप है. इस मामले में मुशरही थाना के क्षेत्र में प्रभारी चिकित्सा अधिकारी उपेंद्र चौधरी ने मुकदमा दर्ज कराया है. इस मामले की जांच एसएसपी के निर्देश पर मुशहरी थानेदार धर्मेंद कुमार करेंगे. 

थानेदार धर्मेंद्र कुमार ने बताया कि प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मुशहरी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी उपेंद्र चौधरी ने गुरुवार शाम इस मामले में एफआईआर के लिए आवेदन दिया था. जिसके आधार पर प्रखंड लेखापाल अवधेश कुमार के खिलाफ केस किया गया है. 

मुजफ्फरपुर मातृत्व लाभ बिचौलिया घोटाला: 65 साल की औरत, 18 महीने में 8 बच्चे पैदा

पुलिस उन महिलाओं का सत्यापन करेगी जिनके नाम पर यह घोटाला हुआ है. उन्होंने कहा कि पुलिस यह भी पता लगाएगी कि योजना के नाम पर आई धनराशि महिलाओं को भी मिली है या सारे पैसे बिचौलिए ने ही उड़ा लिए है. उन्होंने बताया कि धनराशि के बारे में पता लगाने के लिए पीएचसी के बहीखाते का भी मिलान किया जाएगा. इसके अलावा भी कई महत्वपूर्ण बिंदु हैं जिसके आधार पर जांच की जाएगी.

मुजफ्फरपुर: पिता के अंतिम संस्कार में शामिल होने घर आ रहे पुत्र की हादसे में मौत

बता दें, नेशनल मैटरनिटी बेनिफिट स्कीम के तहत अस्पताल में बच्चा जन्म देने वाली गर्भवती औरतों को 1400 रुपए और गर्भावस्था के दौरान उनकी निगरानी समेत उन्हें अस्पताल लाने के लिए आशा वर्कर को 600 रुपए की सहायता दी जाती है.

मामले का भंडाफोड़ मुशहरी ब्लॉक से हुआ है. यहां के छोटी कोठिया गांव की 65 वर्षीया शांति देवी के नाम पर मैटरनिटी बेनिफिट स्कीम का लाभ उठाने के लिए बिचौलियों ने 18 महीने में उनके 8 बच्चे पैदा दिखा दिए. शांति के चार बच्चे हैं और जो सबसे छोटा बेटा है वो भी 21 साल पहले पैदा हुआ था. स्थानीय लोगों के अनुसार पिछले 20 सालों में शांति देवी ने किसी भी बच्चे को जन्म नहीं दिया है और अब तो वह वृद्धावस्था पेंशन का लाभ ले रही हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें