पहले स्टार्टअप शुरू किया, फिर खुद पढ़ाई कर मुजफ्फरपुर के प्रांजल ने पास की UPSC परीक्षा

Nawab Ali, Last updated: Sat, 25th Sep 2021, 12:47 AM IST
  • मुजफ्फरपुर के मोतीपुर के रहने वाले प्रांजल प्रतीक ने पहले ही प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास की है. प्रांजल ने यूपीएससी परीक्षा में 529 वीं रैंक हासिल की है. खास बात यह है कि प्रांजल ने बिना किसी कोचिंग के ही यूपीएससी की परीक्षा पास की है.
मुजफ्फरपुर के प्रांजल प्रतीक ने पास की यूपीएससी परीक्षा.

मुजफ्फरनगर. यूपीएससी परिणाम शुक्रवार को घोषित हो हो गए हैं. मुजफ्फरपुर के मोतीपुर के रहने वाले प्रांजल प्रतीक ने पहले ही प्रयास में यूपीएससी की परीक्षा पास की है. प्रांजल ने यूपीएससी परीक्षा में 529 वीं रैंक हासिल की है. खास बात यह है कि प्रांजल ने बिना किसी कोचिंग के ही यूपीएससी की परीक्षा पास की है. प्रांजल ने साल 2020 में अपना स्टार्टअप भी शुरू किया था जिसमें वो ऑनलाइन चैन का काम शुरू किया था. अपने काम के साथ-साथ ही उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास की है. प्रांजल के पिता विश्वनाथ प्रसाद वन विभाग में अधिकारी हैं.

यूपीएससी परीक्षा का शुकवार को फाइनल रिजल्ट जारी हो गया है जिसमें बिहार के कटिहार से शुभम कुमार ने टॉप किया है. वहीं मुजफ्फरपुर के प्रांजल प्रतीक ने भी यूपीएससी की परीक्षा में 529 वीं रैंक हासिल की है. प्रांजल ने यह कारनामा बिना किसी कोचिंग के कर दिखाया है. साथ ही उन्होंने अपना स्टार्टअप करते हुए यूपीएससी परीक्षा की पढ़ाई की. प्रांजल क्चुह्ह समय पहले स्टार्टअप शुरू करते हुए ऑनलाइन सप्लाई चेन शुरू की थी जो किसानों के उत्पादों को बाजार तक पहुंचाती है.  प्रांजल ने रांची के जेएनवी श्यामली से उन्होंने 12वीं तक की पढ़ाई की जिसके बाद उन्होंने इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ स्पेश साइंस एंड टेक्नोलॉजी तिरुवनंतपुरम में दाखिला लिया. 

बिहार में बदमाश बेखौफ! मोतिहारी में RTI एक्टिविस्ट विपिन अग्रवाल की गोली मारकर हत्या

इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ स्पेश साइंस एंड टेक्नोलॉजी तिरुवनंतपुरम से प्रांजल ने 2016 में बीटेक की पढ़ाई की लेकिन इसके बाद आईआईएम बंगलोर से एमबीए की पढ़ाई पूरी करने के बाद एक साल नौकरी की. प्रांजल ने बताया कि उन्होंने खुद से यूपीएससी की तैयारी के साथ ही काम भी किया. जब भी समय मिलता था वह पढ़ने बैठ जाते थे. उन्होंने बताया कि उनके पिता ही उनके प्रेरणा श्रोत हैं. पिताजी सरकारी नौकरी में थे तो उनका भी सपना यूपीएससी करने का था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें